आखिर नगर निगम ने तोड़ा विवादित मकान

आखिर नगर निगम ने तोड़ा विवादित मकान

इंदौर। गौरतलब हो की विधायक विजयवर्गीय को जेल पहुँचाने वाला दो मंजिला विवादित मकान आज भारी संख्या में पुलिस बल की मौजूदगी में जेसीबी की मदद से गिराया गया। नगर निगम रोड (गंजी कंपाउंड) स्थित विवादित मकान को तोड़ने की कार्रवाई नगर निगम के अमले द्वारा सुबह शुरू हुई। निगम ने पूर्व में ही कार्रवाई की सूचना जिला प्रशासन के एडीएम को दे दी थी। भारी संख्या में पुलिस बल की मौजूदगी में दो मंजिला मकान जेसीबी की मदद से गिराया गया। मौके पर 4 पुलिस थाना और एक महिला थाने की 5 टीआई, रिजर्व बल सहित 100 से अधिक पुलिसकर्मी मौजूद रहे। नगर निगम के भवन अधिकारी असित खरे भी यहां मौजूद थे, जिनका उस दिन विधायक आकाश विजयवर्गीय से विवाद हुआ था।

निगम के बिल्डिंग ऑफिसर (बीओ) असित खरे ने बताया कि मकान में रहने वाले एक किराएदार भेरूलाल श्रीवंश ने खुद संपर्क कर फ्लैट की चाबी ली जबकि बुधवार को वह नहीं मिला तो निगम अधिकारियों ने उसके बेटे के स्कीम-78 स्थित घर पर जाकर नोटिस दिया था। बीओ ने बताया कि जर्जर मकान में उनका जो सामान रखा था, उसे निगम के डंपर की मदद से भूरी टेकरी स्थित शहरी गरीबों के फ्लैट (सी-210) में शिफ्ट कर दिया गया है।

नौ दिन बाद आया मुहूर्त

अभी भी निगम अफसर आशंकित हैं कि शुक्रवार को कार्रवाई हो ही जाए और मकान टूट ही जाये। यदि आज शुक्रवार को मकान टूट गया तो ठीक नहीं तो फिर नौ दिन बाद यह मुहूर्त आएगा। ज्ञात हो की 26 जून को निगम का अमला मकान तोड़ने मौके पर पहुंचा था, जिसका विधायक आकाश विजयवर्गीय ने विरोध करते हुए क्रिकेट बल्ले से मारपीट की थी। जिसके बाद आज पुनः इस मकान को गिराने की कारवाही की गई। 

जेल जाने के बाद भी टुटा मकान 

इधर लोगो की की काना फुसी चल रही है, की विधायकी धरी की धरी रह गई जेल की हवा खाने के बाद भी मकान को गिराने से नहीं रोक पाए विजयवर्गीय। आखिर हाईकोर्ट के आदेश के बाद निगम कर्मियों ने मकान को गिरा ही दिया। 

Follow Us

सम्पादक :- मध्यभारत live न्यूज़

%d bloggers like this: