nahin-khulenge-skool-aprail-se-praarambh-hoga-nav-shaikshanik-satr

आज भी 667 स्कूलों में बिजली और पानी नहीं है, सुधरेंगे हालात !

भोपाल- जिन सरकारी स्कूलों में बिजली, पानी व शौचालय की व्यवस्था नहीं है, अब उन स्कूलों में भी सभी मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएगी। राजधानी में ऐसे 50 से अधिक स्कूल हैं, जहां पानी तक नहीं है। बच्चों को घर से पानी लेकर आना पड़ता है। ऐसे शासकीय व अशासकीय स्कूलों में विधानसभा चुनाव-2018 के लिए मतदान केंद्र बनाए गए हैं। यहां शिक्षा विभाग की ओर से बिजली, पानी और शौचालय की व्यवस्था करवाने के निर्देश जारी किए गए हैं। ऐसे में प्रत्येक स्कूल को बिजली कनेक्शन के लिए 10 हजार रुपए दिए जा रहे हैं।

साथ ही स्कूलों में स्थित मतदान केंद्रों में मूलभूत सुविधाओं के संबंध में जिला शिक्षा अधिकारी ने बीते बुधवार को प्राचार्यों की बैठक आयोजित की और जरूरी दिशा-निर्देश दिए। जिला शिक्षा अधिकारी ने प्राचार्यों को निर्देश दिए कि जिले के 667 स्कूलों में बने मतदान केंद्रों पर दो दरवाजे, विद्युत व्यवस्था, दिव्यांगजनों के लिए रैंप की उपलब्धता, पेयजल एवं शौचालय की उचित व्यवस्था करवाई जाए।

बच्चों को मिलेगे फायदे 

स्कूल प्राचार्यों का कहना है, कि मतदान केंद्र के बहाने कम से कम स्कूलों की व्यवस्था में सुधार तो होगा। अगर स्कूलों में बिजली, पानी या शौचालय की व्यवस्था सुधरेगी तो बच्चों को भी फायदा मिलेगा।

संकुल प्राचार्य मतदान केंद्रों की व्यवस्था में लग गए  

जिला शिक्षा अधिकारी ने संकुल प्राचार्यों को निर्देश दिए कि अपने अंतर्गत आने वाले सभी स्कूलों की व्यवस्था को ठीक कर लें और जो भी कमियां हैं, उन्हें तत्काल पूरी करे । राजधानी के शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों के करीब 667 स्कूलों को मतदान केंद्र बनाये गये है। इनमें सबसे अधिक स्कूल ग्रामीण क्षेत्र के हैं, जिनमें बिजली की समस्या है। इन स्कूलों में स्थायी बिजली कनेक्शन की प्रक्रिया चल रही है।

व्यवस्थाएं होंगी दुरुस्त

सभी संकुल प्राचार्यों को मतदान केंद्रों की व्यवस्थाएं दुरुस्त करने के निर्देश दिए हैं। स्कूलों में पानी, शौचालय और बिजली की व्यवस्था ठीक करने के लिए कहा है। 

Follow Us

सम्पादक :- मध्यभारत live न्यूज़

%d bloggers like this: