उन्नत नस्ल के गौ एवं भैंस पालकों को मिलेगा पुरुष्कार

धार। भारतीय उन्नत नस्ल के गौ एवं भैंसवंशीय पशुओं के पालन को बढावा देने और अधिक दुग्ध उत्पादन को प्रोत्साहित करने के लिए गौ पालक  पुरस्कार योजना शुरु की जा रही है। इस योजना में भारतीय (देशी) नस्ल की ऐसी गाय जिसका दुध प्रतिदिन 4 लीटर या भैंस जिसका दुध 6 लीटर प्रतिदिन या उससे अधिक हो, उनके पालको को गौ पालक पुरस्कार के तहत विकास खंड, जिला एवं राज्य स्तरीय पुरस्कार मिल सकता है। इसके लिए पशु पालकों को अपने निकटतम पशु चिकित्सा में आवेदन प्रस्तुत कर गाय एवं भैंस का पंजीकरण करवाना होगा। प्रतियोगी गाय एवं भैंस के तीन समय के दुग्ध उत्पादन का औसत के आधार पर प्रथम, द्वितीय एवं तृतीय पुरस्कार के लिए चयन किया जावेगा।
     उप संचालक पशुपालन डाॅ. अशोक कुमार बरेठिया ने बताया कि राज्य शासन द्वारा गोपाल पुरस्कार योजना के अंतर्गत विकास खंड स्तरीय प्रतियोगिता में प्रथम स्थान पर आने वाली गाय एवं भैंस के पालक को 10 हजार रूपये, द्वितीय स्थान पर आने वाली गाय एवं भैंस के पालको को  7 हजार 500 रूपये एवं तृतीय स्थान पर आने वाली भैंस के पालक को 5 हजार रूपये का पुरस्कार प्रदान किया जावेगा।
जिला स्तरीय प्रतियोगिता में प्रथम स्थान पर आने वाली गाय एवं भैस के पालक को 50 हजार रूपये, द्वितीय स्थान पर आने वाली गाय एवं भैंस के पालक को 25 हजार रूपये, एवं तृतीय स्थान पर आने वाली गाय एवं भैंस के पालको को 15 हजार तथा शेष सात गाय एवं भैंस पालको को 5-5 हजार रूपये का सांत्वना पुरस्कार दिया जावेगा।
     राज्य स्तरीय प्रतियोगिता में प्रथम स्थान पर आने वाली गाय भैंस के पालक को 2 लाख रूपये, द्वितीय स्थान पर आने वाली गाय एवं भैंस के पालक को 1 लाख रूपये एवं तृतीय स्थान पर आने वाली गाय एवं भैंस के पालक को 50 हजार तथा शेष सात गाय एवं भैंस के पालकों को रूपये 10-10 हजार रूपये का सांत्वना पुरस्कार दिया जावेगा।
उपसंचालक पशुपालन ने जिले के पशुपालको से अपील की है कि वे इस प्रतियोगिता में अपने उन्नत पशुधन के साथ आवश्यक रूप से भाग ले। एवं पुरुष्कार के हक़दार बने। 

Follow Us

सम्पादक :- मध्यभारत live न्यूज़

%d bloggers like this: