करोड़ों जन्मों के बाद मनुष्य जन्म मिलता है, उसे सत्कर्मो में लगाएं

धार। अग्रवाल समाज के संयोजन मैं आयोजित श्रीमद् भागवत ज्ञान 108 भागवत परायण के चौथे दिन व्यासपीठ से पंडित नरोत्तम तनु महाराज ने कहा कि करोड़ों जन्मों के बाद मनुष्य जन्म मिलता है, उसे सत्कर्मो में लगाएं। इस युग में मनुष्य बनना बड़ा कठिन है। भागवत कथा मनुष्य बनने की कला सिखाती है।

       उन्होंने ज्ञान के बारे में बताया कि वो शब्दात्मक हो तो कोई काम का नहीं, जब तक उसे क्रियान्वित नहीं किया जाए तब तक वो उपयोगी नहीं होता है। जैसे भोजन करना बड़ी बात नहीं उसे पचाना जरूरी है। ठीक उसी तरह ज्ञान वास्तविक जीवन में उतारना जरूरी है। भक्तिमार्ग से ही परमात्मा को प्राप्त किया जा सकता है। मंदिरों में बैठकर लौकिक बातें न कर भगवान के बारे में ध्यान करना चाहिए। धरती पर कभी भी अधिक आबादी से भार नही होता। अधिक पाप से धरती पर भार होता है।

       इस दौरान कथामहोत्सव में संक्षेप में श्रीराम चरितमानस के बारे में बताने के बाद श्रीकृष्ण जन्म की झांकी सजाई गई। मटकी फोड़ प्रसंग में पांडाल में बैठे श्रोता मंत्रमुग्ध होकर नाचते-गाते नजर आए। कथा को और भक्तिमय बनाते हुये कथा वाचक ने एक भजन ‘‘नन्द घर आनन्द भयो जय कन्हैया लाल की’’ तथा ‘नन्दलाल प्रगट भये आजु बिरज में लडडूवा बटे‘ सुनाया तो हर कोई अपने कान्हा की खुशी में झूम झूमकर नाचने लगा।
       कथा में पूर्व केंद्रीय मंत्री विक्रम वर्मा धार विधायक नीना वर्मा अग्रवाल समाज के अध्यक्ष योगेश अग्रवाल,प्रमोद सेनापति, गिरराज अग्रवाल, जितेंद्र अग्रवाल, राजेश अग्रवाल, कल्याण अग्रवाल, आशीष गोयल सहित समाजजन  मौजूद थे।

उक्त जानकारी मीडिया प्रभारी श्याम मंगल ने दी।

Follow Us

सम्पादक :- मध्यभारत live न्यूज़

%d bloggers like this: