कोई नहीं जानता कब करिश्मा हो जाए

कोई नहीं जानता कब करिश्मा हो जाए

आलीराजपुर ब्यूरो अब्बास जाम्बुवाला
आलीराजपुर। राजनीति में कब करिश्मा हो जाए यह कोई नहीं जान सकता है। कभी कभी ईश्वर भी किसी के भाग्य में ऐसे लेख लिख देता है कि वह सोच भी नही सकता है। रतलाम-झाबुआ संसदीय सीट पर ऐसा ही करिश्मा गुरुवार को हो चुका है। जो कि भारत में शायद ही किसी नेता ने किया हो।

जी हाँ हम बात कर रहे है रतलाम संसदीय क्षेत्र से भाजपा के विजयी हुए प्रत्याशी गुमानसिंह डामोर की। जिन्हौेंने छह माह पहले 2018 में संपंन विधानसभा चुनाव में सांसद कांतिलाल भूरिया के पुत्र विक्रांत भूरिया को हराकर विधायक पद हासिल किया वहीं लोकसभा चुनाव में उनके पिता कांतिलाल भूरिया को सांसद के चुनाव में हराकर सांसद भी बन गए। याने की छह माह की अवधि में ही विधायक व विधायक से सांसद बनने वाले गुमानसिंह डामोर संभवत देश के एकमात्र नेता बन गए हैं। अब ये भाग्य का खेल देखिए की विधायक व सांसद बनने के लिए गुमानसिंह डामोर ने एक ही परिवार के पिता व पुत्र को हराकर एक किर्तीमान इतिहास रच दिया है। हालांकि इस खेल में उन्हें मोदी मैजिक का भी बहुत बड़ा योगदान  हैं। खैर जो भी हो अब गुमानसिंह डामोर विधायक से सांसद बन गए है।

पुत्र के बाद पिता को पराजित कर गुमान ने बढ़ाया भाजपा का मान
लोकसभा चुनाव की मतगणना को लेकर जिले के मतदाताओं में इस बात की उत्सुकता थी कि इस बार रतलाम झाबुआ संसदीय सीट पर दिल्ली के लिए उनका प्रतिनिधित्व कौन करेगा। जैसे ही गुरूवार को सुबह 8 बजे से मतगणना प्रारंभ हुई धीरे धीरे रूझान सामने आने लगे। शुरूआती दौर में आलीराजपुर एवं जोबट विधानसभा में भाजपा एवं कांग्रेस के मध्य बराबरी की टक्कर दिखाई दी। लेकिन अंत में अंतिम मतगणना तक पहुंचते पहुंचते आलीराजपुर विधानसभा से भाजपा 276 मतो से विजय घोषित हुई। वहीं जोबट विधानसभा में कांग्रेस ने 18 हजार से अधिक मतो की लीड ली। लेकिन झाबुआ एवं रतलाम जिले में भाजपा प्रत्याशी गुमानसिंह डामोर को भारी मत प्राप्त हुए। जिसके चलते गुमानसिंह डामोर ने कांग्रेस प्रत्याशी कांतिलाल भूरिया को 1 लाख से अधिक मतो से पराजित करने में सफलता प्राप्त की। गत विधानसभा चुनाव में डामोर ने कांग्रेस प्रत्याशी कांतिलाल भूरिया के पुत्र विक्रांत भूरिया को भी हराया था।

विधानसभा की 22 हजार लीड का पीछा कर भाजपा ने बनाई बढ़त
गत विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने आलीराजपुर विधानसभा चुनाव में 22 हजार से अधिक मतो से विजय प्राप्त की थी। लेकिन 6 माह बाद हुए लोकसभा चुनाव में मतदाताओं के मन में फिर से बदलाव हुआ और कांग्रेस की 22 हजार की लीड कम हो गई और भाजपा ने 276 मतो से बढ़त बनाकर एक तरह से मनोवेज्ञानिक जीत हासिल कर ली। प्रथम दौर की मतगणना के बाद ही कभी कांग्रेस तो कभी भाजपा आगे निकलती रही। बीसवे राउंड तक पहुंचते पहुंचते मुकाबला बहुत कड़ा हो गया ओर अंत में जाकर आलीराजपुर विधानसभा से भाजपा को लीड प्राप्त हुई।

जोबट विधानसभा में कांग्रेस ने बनाई बढ़त
गत विधानसभा चुनाव में भाजपा कांग्रेस से करीब 2 हजार मतो से ही पराजित हुई थी। लेकिन लोकसभा चुनाव में यह अंतर बढ़कर 18 हजार के पार चला गया। इस बार हुए लोकसभा चुनाव के मतदान में जोबट विधानसभा में 68 प्रतिशत से अधिक मतदान हुआ था जो की अपने आप में एक रिकार्ड है। जिले में जहां एक और पीएम मोदी को लेकर लोगों में उत्सुकता थी। वहीं कांग्रेस भी अपनी परंपरागत वोट बैंक को बचाए रखने में कामयाब रही। जोबट विधानसभा में कांग्रेस प्रत्याशी कांतिलाल भूरिया की भतीजी एवं विधायक कलावती भूरिया के द्वारा कांग्रेस के पक्ष में मतदान कराए जाने से कांग्रेस को फायदा हुआ।

नगर में दिखा मोदी का असर 1900 की मिली लीड
आलीराजपुर नगर में विगत दिनो नगर पालिका चुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी को 113 मतो की तो विधानसभा के चुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी को 1800 मतो की लीड मिली थी। लेकिन लोकसभा चुनाव में आमजनो पर मोदी मेजीक का इतना असर था कि लोगों ने भाजपा की झोली भर दी और भाजपा प्रत्याशी गुमानसिंह डामोर को आलीराजपुर नगर से 1978 मतो की लीड प्राप्त हुई। नगर मे मिली लीड से भाजपा के कार्यकर्ताओं में एक नया जोश देखने को मिला। हालांकि 2014 में मोदी लहर के दौरान भी भाजपा को नगर से 2200 मतों की लीड मिली थी।

भाजपा ने निकाला जुलूस की आतिशबाजी
गुरूवार को मतगणना समाप्त होने के बाद भाजपा ने जिला भाजपा कार्यालय से जुलूस निकाला। जिसमें कार्यकर्ताओं ने उत्साहपूर्वक नारेबाजी करते हुए भारत माता की जय के जयकारे लगाए। इसके पूर्व जिला भाजपा कार्यालय पर सुबह से ही कार्यकर्ताओं का हुजूम उमड़ता दिखाई दिया और देखते ही देखते सैंकड़ो कार्यकर्ता भाजपा कार्यालय पर एकत्रित हो गए। जैसे जैसे परिणाम सामने आते गए कार्यकर्ताओं ने कार्यालय के जमकर आतिशबाजी चालु कर दी। देखते ही देखते पुरे नगर में भाजपा कार्यकर्ताओं द्वारा जमकर आतिशबाजी की गई। शाम को 5 बजे प्रदेश प्रवक्ता नागरसिंह चौहान व भाजपा जिलाध्यक्ष किशोर शाह के नेतृत्व में भाजपा का जुलूस नगर के मुख्य मार्गो से निकला। जिसमें भाजपा नेता व नपा उपाध्यक्ष संतोष परवाल मकू सेठ सहित सैंकड़ो की संख्या में मौजूद भाजपा कार्यकर्ता नृत्य करते हुए चल रहे थे।

10 राउंड में भाजपा तो १० राउंड में कांग्रेस रही आगे
आलीराजपुर विधानसभा की मतगणना कुल 20 राउंड में संपन्न हुई। जिसमें भाजपा व कांग्रेस दोनो ने समान रूप से 10-10 राउंड जीते। भाजपा ने 1,2,5,6,7,11,15,16,17 व 19 वा राउंड जीता। वहीं कांग्रेस ने 3,4,8,9,10,12,13,14,18 व 20 वा राउंड जीता। 10 राउंड तक भाजपा व कांग्रेस में काटे का मुकाबला देखने को मिला। कभी भाजपा आगे रही तो कभी कांग्रेस। इस दौरान दोनो दलो के कार्यकर्ताओं मे हाव भाव देखने लायक थे। कभी खुशी कभी गम की स्थिति दोनो दलो मे बारी बारी से देखने को मिली। प्राप्त जानकारी के अनुसार भाजपा ने 5 राउंड 1 हजार से अधिक मतो से जीतने में सफलता प्राप्त की। वहीं कांग्रेस सिर्फ 2 राउंड ही 1.1 हजार से अधिक मतो से जीत सकी।

Follow Us

सम्पादक :- मध्यभारत live न्यूज़

%d bloggers like this: