क्या जिले में कांग्रेस कभी एकजुट हो सकेगी !

क्या जिले में कांग्रेस कभी एकजुट हो सकेगी !

Share Post & Pages

33 डिग्री के तापमान में राहुल को सुनते रहे लोग, स्थानीय आयोजक पानी भी नहीं पिला सके- 

धार। धार जिले में कांग्रेस कभी एकजुट हो सकेगी, इस सवाल का जवाब मंगलवार को हुई राहुल गाँधी की रैली में मिल गया। कांग्रेस की इस संकल्प यात्रा में साफ़ दिखाई दिया कि पार्टी में गुटबाज़ी चरम पर है। राहुल को सुनने आए कांग्रेसियों में एकता का नितांत अभाव नज़र आया। अपने-अपने नेताओं के झंडे लिए समर्थक मैदान में दिखाई दिए। कुल मिलाकर राहुल गाँधी का भाषण धार जिला कांग्रेस में एकता का संचार करने में विफल रहा।
मंच पर भी ये गुटबाजी साफ़ नज़र- 
 सभा स्थल पर सुबह 11 बजे से भीड़ जुटने लगी थी। कांग्रेस कार्यकर्ता पीजी कॉलेज  स्थित मैदान पर आना शुरू हो गए थे। इन कार्यकर्ताओं ने जो ध्वज थाम रखे थे, उन पर जिले के विभिन्न नेताओं के नाम लिखे हुए थे। मंच पर भी ये गुटबाजी साफ़ नज़र आई और बाहर सड़क पर भी। राहुल गाँधी के बहाने अन्य नेताओं ने इस बात का पूरा ध्यान रखा कि उनका नाम भी राहुल गाँधी के साथ उछलता रहे। भीड़ में बैठे समर्थक भी भाषण के दौरान अपने-अपने क्षेत्र के नेता का गुणगान करते रहे। 
अव्यवस्थाओं की चर्चा चरम पर रहीं-
 स्थानीय आयोजकों ने भीड़ जुटाने के चक्कर में लोगों को जल्दी मैदान पर बुला लिया था। 11 बजे समर्थक आना शुरू हो गए थे लेकिन तब इन्दौर में राहुल गाँधी का पूर्व तय कार्यक्रम शुरू भी नहीं हुआ था। मंगलवार को धार में लगभग 33 डिग्री तापमान रहा। चिलचिलाती धूप में कांग्रेसी पसीना बहाते रहे। लोगों  लगभग ढाई घंटे राहुल की प्रतीक्षा करनी पड़ी।  आयोजकों की लापरवाही इस कदर रही कि लोगों के लिए पीने के पानी की व्यवस्था तक नहीं की गई थी। धार शहर में देर रात तक इस आयोजन की अव्यवस्थाओं की चर्चा चलती रही। 
Follow Us Social media

सम्पादक :- मध्यभारत live न्यूज़

%d bloggers like this: