क्राइम ब्रांच पुलिस को मिली बड़ी सफलता, चोरी करने वाले चार आरोपी गिरफ्तार

क्राइम ब्रांच पुलिस को मिली बड़ी सफलता, चोरी करने वाले चार आरोपी गिरफ्तार

धार। जिले में नवागत पुलिस अधीक्षक आदित्य प्रताप सिंह के चार्ज लेने के बाद लूट, डकैती और चोरी की घटनाओं में लिप्त आरोपियों की धरपकड़ में क्राइम ब्रांच व पुलिस को लगातार सफलताएं मिल रही है। इसके पीछे एक कारण यह भी हो सकता है, नवागत पुलिस कप्तान का रवैया अपराधियों के खिलाफ सख्त हैं। पुलिस अधीक्षक के निर्देशानुसार प्रत्येक थाना क्षेत्र में वहां की पुलिस टीम प्रतिदिन वाहन चेकिंग कर रही है, साथ ही संवेदनशील व्यक्ति दिखाई देने पर कड़ाई से उसके साथ पूछताछ की जा रही है। किसी भी किमत पर सम्बंधित व्यक्ति को यातायात और कानून के दायरे से बाहर पाए जाने पर कार्यवाही की जा रही है। उसे बख्शा नहीं जा रहा है चाहे वह पुलिस कर्मी हो या कोई और। 

कैसे मिली आरोपियों को पकड़ने में कामयाबी 

इस लूट की कड़ी में क्राइम ब्रांच धार को सूचना मिलने के बाद क्राइम ब्रांच ने कुछ माह पूर्व चोरी की गई भेड़ बकरियों के चोर लुटेरों को गिरफ्तार करने में बड़ी सफलता प्राप्त की है। जिसमें क्राइम ब्रांच व राजगढ़ पुलिस द्वारा सिद्दीक पठान जो अपने गांव के ही रहने वाले अन्य साथियों के साथ मिलकर चोरी की गई भेड़ बकरियां को सस्ते दाम में खरीदकर हाट बाजारों में बेचने का काम कर रहा है। इस बात को गंभीरता से लेते हुए मुखबिर की सूचना पर सिद्दीक पिता स्वर्गीय शब्बीर पठान जाति मुसलमान उम्र 36 साल निवासी बाग को पकड़कर कड़ाई से पूछताछ की गई तो सिद्दीक ने पुलिस को बताया कि हाट बाजार में भेड़ बकरी बेचने व खरीदने का काम करता हूं। मेरे ही कस्बे में नईम पिता जकीर मेवाती, फिरोज पिता रफीक खान व शहीद पिता सलीम मेवाती रहते हैं। जो मेरे बचपन के दोस्त हैं, नईम फिरोज भी हाट बाजार में बकरा बकरी खरीदने और बेचने का काम करते हैं। 

डायल 100 का ड्रायवर भी निकला चोरो का साथी

सईद थाना टांडा की डायल हंड्रेड गाड़ी में पिछले 4 साल से ड्राइवरी का कार्य कर रहा था। पुलिस थाने की गाड़ी चलाने से वह टांडा क्षेत्र के अपराधी क्षेत्रों को भलीभांति जानता था। और उसकी अपराधियों में अच्छी जान पहचान भी थी। सिद्दीक ने बताया कि 15 दिन पूर्व सईद ने मुझे बोला की होलीबयड़ा में चोरी की लगभग 100 भेड़े हैं, तू फिरोज और नईम तीनों मिलकर देख लो बहुत सस्ते दाम में मिल जाएगी मैंने बात कर ली है। तो मैंने पैसे के लालच में आकर हां कर दी फिरोज और नईम को चोरी की गई भेड़े खरीदने की बात कही दोनों राजी हो गए और हमने 70 भेड़ों का सौदा 25 सो रुपये प्रति के हिसाब से किया। हमने यह भेड़े जुवानसिंह निवासी होलीबयड़ा से खरीदी थी, जिसमें मैंने अपनी कार का इस्तेमाल भी किया था मैं अपने हिस्से की लगभग 20 भेड़े कार से लाया था तथा नईम व फिरोज अपने परिचित अखलाक नामक व्यक्ति से एक आईसर बुलाकर उसमें भेड़ भर कर लाए थे मैं भी अपनी शेष पांच भेड़े उसी आईसर में लाया था। 

कहाँ कहाँ से हुई भेड़े प्राप्त

क्राइम ब्रांच टीम वह राजगढ़ थाना प्रभारी सुश्री सपना डोडिया की टीम द्वारा सिद्दीक के घर से 25 भेड़े जप्त की गई, साथ ही आरोपी फिरोज और नईम के घर से 44 बड़े जप्त की गई। तीनों आरोपियों से अभी तक कुल मिलाकर गुण 70 भेड़े जप्त की गई है। जिसकी कीमत लगभग 2 लाख रुपये हैं पुलिस द्वारा आरोपी सईद को भी गिरफ्तार कर लिया गया है, जिसने चोरी की गई भेड़े बिकवाने का जुर्म स्वीकार किया है।

चोरो का मुखबिर डायल 100 का ड्रायवर

इतना ही नहीं आरोपी सईद की शिकायत कई दिनों से पुलिस को मिल रही थी कि वह टांडा क्षेत्र के बदमाशों से पुलिस के नाम पर अवैध वसूली करता है। तथा पुलिस की गतिविधियों की सूचना भी चोरों को देता है। आरोपी सईद से पुलिस अभी और भी पूछताछ कर रही है। 

क्या है पूरा मामला पुलिस के अनुसार

गौरतलब है कि 6 माह पूर्व राजगढ़ थाना क्षेत्र में एक भेड़ों की लूट की घटना हुई थी, जिसको नवागत पुलिस अधीक्षक ने गंभीरता से लेते हुए भेड़ों की तलाश हैतू कई बार अपराधी क्षेत्र जामदा भूतिया एवं होलीबयड़ा में दबिश दी गई। इस मामले पुलिस को सफलता नहीं मिल पाई थी।

राजगढ़ थाना की घटना का संक्षिप्त विवरण इस प्रकार है

विगत 6 माह पूर्व 24 दिसंबर 2018 को फरियादी भग्गा पिता सांखला रेवारी निवासी थाना तखतगढ़ राजस्थान ने राजगढ़ थाने में आकर रिपोर्ट दर्ज करवाई थी कि वह भेड़ पालन का काम करता है और 23 दिसंबर के रात में 500 भेड़ व ऊँट चराने के उद्देश्य से अपने परिवार सहित माही नदी के किनारे डेरा लगाकर रुके थे रात करीब 10:00 बजे तीन चार हथियार धारी अज्ञात बदमाश आए और जाल हटाकर हमारी भेड़ों को चुरा कर ले जा रहे थे, जिस पर फरियादी व उसके परिवार द्वारा बदमाशों से आमना-सामना हुआ जिसमें बदमाशों ने बंदूक से फायर किए तथा पत्थर चलाये, जिसमें फरियादी व उसके परिवार के सदस्य घायल हो गए थे तथा बदमाश अंधेरे का फायदा उठाकर फरियादी की 200 भेड़ चुरा ले गए थे। फरियादी की रिपोर्ट पर अज्ञात बदमाशों के विरुद्ध थाना राजगढ़ में अपराध क्रमांक 558 / 18 धारा 379, 458 व 34 भादवी की धाराओं में अपराध पंजीबद्ध किया गया था। 

मुख्य आरोपी अभी भी पुलिस की पकड़ से बाहर 

पुलिस को मिली इस बड़ी सफलता में अभी तक मुख्य आरोपी का कोई अता पता नहीं है। पुलिस उस तक अभी नहीं पहुंच पाई है। इस पूरी घटना में जुवान सिंह निवासी होलीबयड़ा को पुलिस द्वारा अभी गिरफ्तार नहीं किया गया है। जिसके पास से इन लोगों ने यह भेड़े खरीदी।

Follow Us

सम्पादक :- मध्यभारत live न्यूज़

%d bloggers like this: