ग्रामीण इलाकों की करीब 500 स्कूले शिक्षक विहीन

ग्रामीण इलाकों की करीब 500 स्कूले शिक्षक विहीन

आलीराजपुर ब्यूरो चीफ- अब्बास जाम्बुवाला
आलीराजपुर। आदिवासी अंचल के इस जिले में आराम तलबी, अपनी मनमर्जी व सुविधानुसार मन पसंद जगह नौकरी कर रहे शिक्षकों की अब खैर नहीं है। जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष महेश पटेल, जोबट विधायक कलावती भूरिया व नपा अध्यक्ष सेना पटेल ने सोमवार को कलेक्टर सुरभि गुप्ता को एक लिखित आवेदन देकर जिले में नियम विरुद्ध तरीके से करीब 400 शिक्षक कर्मचारियों के अटैचमेंट समाप्त करने की मांग की। जैसे ही यह खबर सोशल मीडिया पर वाईरल हुई अटैचमेंट लिए हुए सैकड़ों शिक्षकों में हड़कंप मच गया। हालांकि कलेक्टर मैडम को आवेदन मिलने के बाद से ही ऐसे शिक्षक व कर्मचारीगण नेताओं व अफसरों से सेटिंग में लग गए हैं। अब वे इसमें कितना सफल होंगे यह तो भविष्य में पता चल ही जाएगा। किंतु जिले में शिक्षकों के अटैचमेंट के मामले में कई लोगों के वारे न्यारे होने वाले है और कई लोगों की अब मूल जगह पर पोस्टिंग भी होगी ऐसी उम्मीद जताई जा रही है। फिलहाल तो गेंद अब नवागत कलेक्टर मैडम के पाले में है कि वे अब किस प्रकार की कार्रवाई करती हैं।

क्या है आवेदन

कांग्रेस नेताओं के द्वारा कलेक्टर मैडम को दिए गए आवेदन में उल्लेख किया गया कि आलीराजपुर जिले में नियम विरूद्ध तरिके करीब 400 शिक्षक कर्मचारियों के अटैचमेंट सहायक आयुक्त व शिक्षा अधिकारियों ने लम्बे समय से कर रखे है। जबकि शासन के स्पष्ट आदेश है कि अटैचमेंट तत्काल समाप्त किए जाये। परन्तु जिला अधिकारियों की मनमानी ओर कर्मचारियों के साथ मिलीभगत होने से जिले में अटैचमेंट प्रक्रिया निरंतर जारी है। शिक्षा विभाग के अलावा जिले में अन्य विभागो में भी अनेक कर्मचारी इधर से उधर अटैच है। अटैचमेंट के कारण मूल विभाग के कार्य प्रभावित हो रहे है। छः ब्लाक के अंतर्गत ग्रामीण इलाकों की करीब 500 स्कूले शिक्षक विहीन है। इस वजह से पिछले वर्ष ओर इस वर्ष का परीक्षाफल निराशाजनक रहा है। पिछले वर्ष तो हाईस्कूल ओर हाई सेकेंडरी स्कूल का पूरे प्रदेश में सबसे फिसड्डी परीक्षा परिणाम रहा था। ग्रामीण क्षेत्र में पदस्थ रहे शिक्षक ओर शिक्षिकाए आर्थिक लेन देन करके नगरीय क्षेत्रो में पदस्थ हो गए है। जबकि इनकी जरूरत ग्रामीण क्षेत्रों में है। जिले में प्राचार्य ओर खण्ड शिक्षा अधिकारियों के पद खाली है। स्कूले ओर बड़े आफिस प्रभारियों के परोसे चल रहे है।
कांग्रेस नेताओं ने कलेक्टर गुप्ता से अनुरोध किया कि जिले में शिक्षक शिक्षिकाओं सहित अन्य विभाग के कर्मचारियों के नियम विरूद्ध जो अटैचमेंट किए गए है। वो अटैचमेंट समाप्त किए जाए। साथ ही नगरीय क्षेत्रों की स्कूलो में जो अधिक्य शिक्षक है उन्हें ग्रामीण क्षेत्रों में पदस्थ कर ग्रामीण क्षेत्रो की शैक्षणिक गुणवत्ता सुधार करने संबंधित कार्यवाही करने का कष्ट करें।

कलेक्टर सुरभि गुप्ता ने आवेदन लेने के बाद आस्वाशन दिया की वे इस मामले को शीघ्र ही दिखवा रही है और अटैचमेंट समाप्त करने की कार्रवाई करेंगी।

कब होगी कार्रवाई, सबको रहेगा इंतजार

जिले में शिक्षकों के अटैचमेंट का मामला अब जिला प्रशासन के पूरी तरह से संज्ञान में आने के बाद सभी को इस बात का इंतजार रहेगा कि इस मामले में नवागत कलेक्टर सुरभि गुप्ता कब कार्रवाई करेंगी। उनकी इस कार्रवाई को जहां एक ओर जनप्रतिनिधियों का सपोर्ट मिल चुका है ऐसी स्थिती में अब सबकी निगाहे कलेक्टर मैडम की ओर लग चुकी है। मैडम की इस मामले में की जाने वाली कार्रवाई का सभी जिलेवासियों को बेसब्री से इंतजार।

Follow Us

सम्पादक :- मध्यभारत live न्यूज़

%d bloggers like this: