जानिये बारिश के हाल कहाँ कितनी बारिश, बारिश का कहर, कई नदी-नाले उफान पर, हाई अलर्ट जारी

जानिये बारिश के हाल कहाँ कितनी बारिश, बारिश का कहर, कई नदी-नाले उफान पर, हाई अलर्ट जारी

प्रदेश में बारिश का कहर, कई नदी-नाले उफान पर, अलर्ट जारी। 

भोपाल। प्रदेश प्रिमानसून के बाद मानसून सक्रिय तो हुआ और बंद भी जिसे लेकर ग्रामीणों ने कई जतन किये की इंद्रा देव प्रशन्न हो बड़े इंतजार व प्रयत्नों के बाद, कई दिनों की बेरुखी के बाद मध्य प्रदेश में मानसून एक बार फिर सक्रिय हुआ। राजधानी भोपाल सहित कई जिलों में जोरदार बारिश के बाद लोगों को हो रही फसलों की चिंता व गर्मी से राहत मिली है। वहीं कई जिलों में भारी बारिश के कारण हालात एक बार फिर से बिगड़ने लगे हैं। नदी-नाले फिर से उफान पर आ गए हैं। कई जगहों पर सड़क के ऊपर नदी नालों का पानी बह रहा है। वहीं मंदसौर में भारी बारिश की वजह से कई कच्चे मकान ढह गए हैं। इस दौरान यहां बारिश की वजह से चंचौड़ा में नदी पार कर रहा एक युवक पानी के तेज बहाव में बह गया। मौसम विभाग ने आगामी 48 घंटे के लिए कई जिलों ने भारी बारिश का अनुमान जताया है।

मंदसौर में कई मकान गिरे, लोगों का घरों से निकलना मुश्किल हो गया। 

भारी बारिश के कारण लोगों का घरों से निकलना मुश्किल हो गया है। कई जगहों पर कच्चे घर क्षतिग्रस्त हो गए हैं। इस पर मंदसौर के जिला कलेक्टर मनोज पुष्प ने प्रभावित लोगों के लिए भोजन की व्यवस्था किए जाने की बात कही है। साथ ही प्रावधानों के मुताबिक प्रभावितों को मुआवजा देने का भी आश्वासन दिया है। ( देवेंद्र शर्मा मंदसौर )

बैतूल में हाईवे को कई घंटों के लिए बंद करना पड़ा। 

बैतूल में भी भारी बारिश के कारण शहरों से कनेक्शन टूट गया है। बारिश की वजह से धार के पास कोयलारी जंगल में पहाड़ी नदी में उफान आ गया है। इससे गुरुवार के दिन बैतूल-अबोदुल्लागंज हाईवे को घंटों के लिए बंद करना पड़ा था। अभी भी हाईवे के ऊपर से पानी बह रहा है। इस वजह से हाईवे को बंद करना पड़ा।

अशोकनगर में भी नदी-नाले उफान पर। 

इसके अलावा अशोकनगर जिले में भी नदी-नाले उफान पर है। इस वजह से शहर का आरोन और सिरोंज से सड़क संपर्क टूट गया है। मौसम वैज्ञानिकों की मानें तो 3-4 दिन तक प्रदेश में बारिश का दौर लगातार जारी रहेगा।

श्योपुर में नदियां उफान पर, 6 घंटे हाईवे पर फंसे रहे वाहन।  

श्योपुर में भारी बारिश के कारण कूनो, सीप, अहेली, जमूदा, सरारी, मोरडूंगरी और पार्वती नदियां उफान पर आ गईं हैं। श्योपुर से शिवपुरी मार्ग पर स्थित बावंदा नाला उफान पर आने से करीब 6 घंटे हाईवे पर वाहन फंसे रहे। इस कारण रेलवे ट्रैक भी पानी डूब गया है, जिससे नैरोगेज ट्रेन को रद्द करना पड़ना है। श्योपुर में भारी बारिश के कारण ध्रुव कुंड महादेव मंदिर भी डूब गया है।

जिले में पिछले चैबीस घन्टों में 12.6 मि.मी. औसत वर्षा दर्ज। पीछे वर्ष की तुलना में अच्छी बारिश।

धार। जिले में पिछले 24 घंटो में 12.6 मि.मी. औसत वर्षा दर्ज की गई है। जिसमें सर्वाधिक वर्षा मनावर में 28 मि.मी. तथा सबसे कम वर्षा तिरला में 4.0 मि.मी. दर्ज की गई है। इस अवधि में धार में 8.4 मि.मी., बदनावर में 7.2 मि.मी., सरदारपुर में 7.0 मि.मी., कुक्षी में 19.0 मि.मी., धरमपुरी में 26.0 मि. मी., गंधवानी में 18.0 मि.मी., नालछा में 11.2 मि.मी., तथा डही में 10.0 मि.मी. वर्षा दर्ज की गई है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार जिले में इस वर्ष 1 जून से अब तक 352.6 मि.मी. औसत वर्षा दर्ज की गई है। सर्वाधिक वर्षा बदनावर में 533.5 मि.मी, तथा सबसे कम बाग में 223.0 मि.मी. दर्ज की गई है। इस अवधि में धार में 387.6 मि.मी., सरदारपुर में 400.0 मि.मी., कुक्षी में 353.0 मि.मी., मनावर में 250.0 मि.मी., धरमपुरी में 309.0 मि.मी., गंधवानी में 224.2 मि.मी., नालछा में 361.2 मि.मी., तिरला में 492.00 मि.मी., तथा डही में 345.0 मि.मी. वर्षा दर्ज की गई है।

जबकि जिले में गत वर्ष इसी अवधि में 315.7 मि..मी. औसत वर्षा दर्ज की गई थी। धार में 348.6 मि.मी., बदनावर में 260.9 मि.मी., सरदारपुर में 295.0 मि.मी., कुक्षी में 309.0 मि.मी., मनावर में 360.0 मि.मी., धरमपुरी में 337.0 मि.मी., गंधवानी में 362.0 मि.मी., नालछा में 414.0 मि.मी., तिरला में 332.0 मि.मी., बाग में 244.0 मि.मी. तथा डही में 210.0 मि.मी. वर्षा दर्ज की गई थी।

Follow Us

सम्पादक :- मध्यभारत live न्यूज़

%d bloggers like this: