जिले में 9 वर्षीय बालिका से दुष्कर्म के दोषी को सश्रम कारावास

जिले में 9 वर्षीय बालिका से दुष्कर्म के दोषी को सश्रम कारावास

नीमच। नाबालिक 9 वर्षीय बालिका से दुष्कर्म के दोषी को न्यायालय ने 13 साल के सश्रम कारावास की सजा सुनाई। साथ ही तीन हजार रुपए का जुर्माना भी किया। जिले के चिन्हित जघन्य अपराध और सनसनीखेज प्रकरण में यह फैसला आया है।

जिला लोक अभियोजन अधिकारी आरआर चौधरी ने बताया कि फैसला अपर सत्रन्यायाधीश मनासा अखिलेश कुमार धाकड़ की कोर्ट द्वारा सुनाया गया।

डीपीओ चौधरी के अनुसार घटना 26 अगस्त 2016 को शाम करीब 4 बजे ग्राम पिपलिया रावजी में हुई थी। जब बालिका अपनी दो बहनों के साथ घर के बाहर खेल रही थी, तभी गांव का ही संतोष पिता रोड़ूनाथ बाबा 22 वर्ष आया और पीड़िता को घर के अंदर ले गया। डरा-धमकाकर उसने बालिका से ज्यादती की और धमकाया। डरी-सहमी बालिका ने देर शाम अपने माता-पिता को पूरी घटना की जानकारी दी। इसके बाद परिजन ने आरोपित के खिलाफ दुष्कर्म, जान से मारने की धमकी और पॉक्सो एक्ट में प्रकरण दर्ज कराया।

पुलिस ने आरोपित को गिरफ्तार कर लिया और चालान न्यायालय में पेश किया। विचारण के दौरान अभियोजन पक्ष और गवाहों को सुनने के बाद न्यायालय ने आरोपित को दोषी करार दिया और सजा सुनाई।

बता दें कि जिले में जुलाई माह में भी एक चिन्हित जघन्य और सनसनीखेज प्रकरण में फैसला आया था। सिंगोली थाना क्षेत्र में हुई दुष्कर्म की घटना में दो आरोपितों को न्यायालय ने दोषी ठहराते हुए आजीवन कारावास की सजा सुनाई थी।

Follow Us

सम्पादक :- मध्यभारत live न्यूज़

%d bloggers like this: