The impact of the news, Secretary Assistant Secretary suspended

आयुक्त जनसंपर्क के आदेश का उल्लंघन कर रहे हैं जनसंपर्क अधिकारी रावत।

निलंबन से बहाल होने पर नियम विरुद्ध पुनः उसी संस्था में की पदस्थापना

कार्यकारी संपादक – राकेश साहू

धार। शासकीय प्राथमिक विद्यालय क्रमांक 13 डी आर पी लाइन धार में पदस्थ रहे सहायक शिक्षक अशोक जाट जो कि आदतन लापरवाह व भगोड़े शिक्षक के रूप में जाने जाते हैं। अपने राजनीतिक आकाओं के दम पर नेतागिरी करके अपनी मनमानी करते हुए जब मनचाहा स्कूल चले गए और हस्ताक्षर कर डाक व मीटिंग का बहाना बनाकर स्कूल से गायब हो जाते हैं, और स्कूल में बच्चों को अध्यापन का कार्य नहीं करवाते हुए बच्चों को घेरकर बैठे रहते हैं।

विधानसभा चुनाव के दौरान प्रशिक्षण में अनुपस्थित रहना

एस डी एम के द्वारा बार बार चेतावनी देने के बाद भी अपने कार्य एवं व्यवहार में सुधार नहीं करना ऎसे आदतन लापरवाह शिक्षक की अनेको शिकायत होने के बावजूद उक्त शिक्षक को विधानसभा चुनाव में चुनाव प्रचार करते हुए आदर्श आचरण संहिता का दोषी पाया गया था और जिला कलेक्टर एवं निर्वाचन अधिकारी ने उक्त शिक्षक को 25 नवंबर 18 को जांच में दोषी पाए जाने पर 26 नवंबर 18 को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर मुख्यालय तिरला नियत किया गया था। 

विभाग ने उक्त शिक्षक की नियम विरुद्ध की पदस्थापना

सामान्य प्रशासन विभाग के नियमानुसार किसी भी निलंबित कर्मचारी को पुनः उसी स्थान पर पदस्थ नहीं किया जाता है। किन्तु जनजातीय कार्य विभाग ने सामान्य प्रशासन विभाग के नियमों का पालन न करते हुए उल्लंघन कर नियमों के विपरीत उक्त आदतन लापरवाह शिक्षक को पुनः उसी स्थान पर पद स्थापना के आदेश जारी किए हैं जो कि गलत है। 

लापरवाही का नमूना, आरोप पत्र का जवाब 6 माह बाद दिया

उक्त शिक्षक अपने कर्तव्य के प्रति कितना लापरवाह है उसका नमूना यह है कि जनजातीय कार्य विभाग ने उक्त शिक्षक को आरोप पत्र दिनांक 31 दिसंबर 2018 को जारी किए। जिसका जवाब उक्त शिक्षक ने 6 माह बाद अत्यधिक विलंब से दिनांक 19 जून 2019 को दिया। 

विभाग ने उक्त शिक्षक को सजा कम क्यों दी ?

उक्त शिक्षक का प्रत्युत्तर समाधानकारक एवं संतोषप्रद नहीं होने से विभाग ने मात्र एक वेतनवृद्धि असंचयी प्रभाव से रोकी ओर निलंबन अवधि को सेवा अवधि भी मान्य किया है। 

जिम्मेदार क्या बोले

जब इस संबंध में जनजातीय कार्य विभाग के सहायक आयुक्त ब्रजेश पाण्डे से चर्चा की गई तो उन्होंने कहा कि उक्त शिक्षक का मामला विधालय से संबंधित नहीं था और न ही वह कोई जांच प्रभावित कर रहा है, और न ही कोई उसने गड़बड़ी की है। इसमें सामान्य प्रशासन विभाग के नियमों का उल्लंघन नहीं किया है। 

Follow Us

सम्पादक :- मध्यभारत live न्यूज़

%d bloggers like this: