पीएम मोदी व राहुल गांधी ने राजघाट पर ?

पीएम मोदी व राहुल गांधी ने राजघाट पर ?

बापू और शास्त्री को किया याद, पीएम मोदी व राहुल गांधी ने राजघाट पर दी श्रद्धांजलि। 

भोपाल :- राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की जयंती पर मंगलवार को देश-दुनिया में लोग बापू और उनकी बताई बातों को याद कर रहे हैं। 2 अक्टूबर को ही देश की एक और महान शख्सियत पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री की भी जयंती है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने ट्विटर पेज पर इन दोनों महान शख्सियतों की याद में दो वीडियो संदेश पोस्ट किए हैं।

      बापू के ऊपर बनाए गए इस वीडियो संदेश को पोस्ट करते हुए पीएम मोदी ने लिखा है कि गांधी जयंती पर राष्ट्रपिता को शत्-शत् नमन। आज से हम पूज्य बापू के 150 वें जयंती वर्ष में प्रवेश कर रहे हैं। उनके सपनों को पूर्ण करने का हम सभी के पास यह एक बहुत बड़ा अवसर है।

     वहीं लाल बहादुर शास्त्री की याद में वीडियो संदेश पोस्ट करते हुए पीएम मोदी ने लिखा है कि सौम्य व्यक्तित्व, कुशल नेतृत्व एवं बुलंद हौसले के प्रतीक लाल बहादुर शास्त्री जी को उनकी जयंती पर विनम्र श्रद्धांजलि। जय जवान-जय किसान!

      इससे पहले मंगलवार तड़के बापू के समाधि स्थल राजघाट पर उन्हें श्रद्धांजलि देने वालों का जमावड़ा लगा रहा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अलावा, कांग्रेस की वरिष्ठ नेता सोनिया गांधी, कांग्रेस के अध्यक्ष राहुल गांधी सहित कई बड़े राजनेता राजघाट पर पहुंचे और महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि अर्पित की।

     गौरतलब है कि महात्मा गांधी का जन्म 2 अक्टूबर 1869 में गुजरात के पोरबंदर में हुआ था। वहीं लाल बहादुर शास्त्री का जन्म 2 अक्टूबर 1904 में उत्तर प्रदेश के मुगलसराय में हुआ था।

  महात्मा गांधी जी को राष्ट्रीय पिता, बापू जी, महात्मा गांधी भी कहा जाता है| पूरे भारतवर्ष में महात्मा गांधी जी को सुपर फाइटर के नाम से भी जाना जाता है| जिन्होंने कई आंदोलन किये और जीते भी|

इन्हे कौन नहीं जानता ?

          पूरे भारतवर्ष में शायद ही कोई व्यक्ति होगा जो इन्हे नहीं जानता होगा| आज के इस लेख में हम बात केवल महात्मा गांधी जी की ही नहीं उनसे जुडी घटनाओं की भी बात करेंगे…

कुछ ऐसी महत्वपूर्ण बातें जिन्हें आपको जानने में बहुत आनंद आयेगा…

 गाँधी जी का जन्म पश्चिमी भारत में गुजरात के एक तटीय पोरबंदर नामक स्थान पर 02 अक्टूबर 1869 को हुआ था|

उनके पिता करमचंद गाँधी जी कट्टर हिन्दू एवं ब्रिटिश सरकार के अधीन गुजरात मे काठियावाड़ की छोटी रियासत पोरबंदर के प्रधानमंत्री थे.

       बाद में वो उनके पिता जी सनातन धर्म की पंसारी जाती से सम्बन्ध रखते थे| वैसे गुजराती भाषा में गाँधी का मतलब पंसारी से होता है| इसका मतलब इत्र (perfume) बेचने वाला भी होता है.

       उनकी माता का नाम पुतलीबाई था और वो परनामी वैश्य समुदाय की थीं| गाँधी जी के पिता की पहले तिन पत्नियाँ थीं और प्रशव पीड़ा के कारण उनकी मृत्यु हुई थी जिस कारण करमचंद गाँधी जी को चौथा विवाह करना पडा था.

       उनकी माता पहले से ही भगवान की पूजापाठ में व्यस्त रहती थीं तो उनका ये सकारात्मक प्रभाव गाँधी जी पर भी पड़ा| जिसकी वजह से गाँधी जी हमेशा कमजोरों में ताकत व उर्जा की भावना जगाते रहते थे, शाकाहारी खाना, आत्मा की शुद्धि के लिए व्रत भी किया करते थे.

Follow Us

सम्पादक :- मध्यभारत live न्यूज़

%d bloggers like this: