प्याज की कीमते बड़ी, सब्सिडी बंद

भोपाल। प्रदेश की कमलनाथ सरकार एक तरफ किसानों के हित की बात कर रही है, किसानों के कर्ज माफी का बड़ा मुद्दा लेकर सत्ता में लौटी कांग्रेस सरकार दिन प्रतिदिन किसानों के लिए मुसीबतें खड़ी करती दिखाई दे रही है। कांग्रेश की कमलनाथ सरकार ने सत्ता में आते ही किसानों को बैंकों से मिलने वाले कृषि ऋण पर 0% ब्याज की स्कीम बंद करने की घोषणा कर दी, साथ ही कई ऐसे किसानों के लिए नुकसानदाई फैसले लिए जिसमें एक प्याज पर मिलने वाली सब्सिडी भी है।  

सरकार ने घरेलू बाजार में प्याज की कीमत बढ़ने के मद्देनजर इसके ताजा और कोल्ड स्टोरोज की प्याज के निर्यात पर प्रोत्साहन को समाप्त कर दिया है। प्याज के निर्यातक पर मर्चेंडाइज एक्सपोर्ट्स फ्रॉम इंडिया स्कीम (एमईआईएस) के तहत निर्यात माल के एफओबी (लदान मूल्य) के 10 फीसदी के बराबर शुल्क की पर्ची का लाभ दिया जा रहा था। इस पर्ची का इस्तेमाल मूल आयात शुल्क सहित कई प्रकार के शुल्कों के भुगतान में इस्तेमाल किया जा सकता है।

9 जून को जारी एक सार्वजनिक सूचना में विदेश व्यापार महानिदेशालय (डीजीएफटी) ने कहा कि वह ताजा और कोल्ड स्टोरेज की प्याज के निर्यात के लिए दिए जाने वाले लाभों को समाप्त कर रहे है। इसमें कहा गया है प्याज पर एमईआईएस के लाभ को तत्काल 10 फीसदी से घटाकर शून्य कर दिया गया है।

पिछले साल दिसंबर में इस योजना के तहत प्याज निर्यात पर प्रोत्साहन की दर को 5 फीसदी से बढ़ाकर 10 फीसदी कर दिया था। इसे इस वर्ष 30 जून तक जारी रखना था। प्रोत्साहन को वापस लेने का निर्णय इस मायने में महत्वपूर्ण है कि सरकार ने उत्पादक राज्यों में सूखे की स्थिति को देखते हुए आने वाले महीनों में कीमतों को अंकुश में रखने के लिए 50,000 टन प्याज का बफर स्टॉक बनाना शुरू कर दिया है।

Follow Us

सम्पादक :- मध्यभारत live न्यूज़

%d bloggers like this: