प्रदेश में कभी नहीं हुआ 62 प्रतिषत से ज्यादा मतदान

32 लाख 84 हजार 249 नए मतदाताओं के हाथ सत्ता की चाबी, 2014 में बढ़े थे 1 करोड़ मतदाता

पत्रकार वीरेंद्र जैन साब—

सरदारपुर-धार। लोकसभा चुनाव में प्रदेश के मतदाता बढ़चढ़कर सहभागिता ले रहे हैं। दरअसल, प्रदेश में इस बार 32 लाख 84 हजार 249 मतदाता पहली बार मतदान कर रहे हैं। 2014 में जहां प्रदेश में 4 करोड़ 81 लाख 17 हजार 771 मतदाता थे तो वहीं इस बार यह आंकड़ा 5 करोड़ 14 लाख 2 हजार 20 पर पहुंच चुका हैं। चैांकाने वाली बात है कि पांच बरस में प्रदेश में मतदाताओं की संख्या में जबर्दस्त इजाफा हुआ हैं। अब तक सबसे ज्यादा आश्चर्य का मसला 2014 में रहा। दरअसल, 2009 की अपेक्षा 2014 में मतदाताओं में इजाफे का आंकड़ा प्रदेश में एक करोड़ के आंकड़े को पार कर गया। 2009 के लोकसभा चुनाव में कुल मतदाता 3 करोड़ 80 लाख 85 हजार 179 थे तो वहीं 2014 में मतदाताओं की संख्या 4 करोड़ 81 लाख 17 हजार 771 हो गई।

2004 और 2009 में कम हो गए थे मतदाता

गौरतलब है कि 1999 के लोकसभा चुनाव के बाद 1 नवंबर 2000 को मध्य प्रदेश से छत्तीसगढ़ अलग हो गया था। 1999 में मध्य प्रदेश (छत्तीसगढ़ सहित) के मतदाताओं की संख्या 4 करोड़ 69 लाख 15 हजार 473 थी लेकिन छत्तीसगढ़ के अलग होने के बाद 2004 में मतदाताओं की संख्या 85 लाख 25 हजार 372 कम हुई और 2004 के लोकसभा चुनाव में प्रदेश में 3 करोड़ 83 लाख 90 हजार 101 मतदाता रह गए। 2009 में फिर मतदाताओं की संख्या घटी और 3 लाख 4 हजार 922 मतदाताओं की कमी के साथ 2009 में प्रदेश से 3 करोड़ 80 लाख 85 हजार 179 मतदाता रह गए।

2014 में फिर हुई बढ़ोत्तरी

2009 के लोकसभा चुनाव के बाद 2014 में हुए चुनाव में मतदाताओं की संख्या लाख में नहीं बल्कि करोड़ में बढ़ गई। 2009 में 3 करोड़ 80 लाख 85 हजार 179 मतदाता थे तो 2014 में मतदाताओं की संख्या 4 करोड़ 81 लाख 17 हजार 771 हो गई। यानी 1 करोड़ 32 हजार 592 मतदाता 5 बरस में बढ़ गए। 2019 में मध्य प्रदेश से कुल 5 करोड़ 14 लाख 2 हजार 20 मतदाता है जो 2014 के मतदाताओं से 32 लाख 84 हजार 249 अधिक हैं।

साल दर साल ऐसा रहा मतदाताओं का प्रदेष में आंकड़ा
वर्ष      मतदाता घट / बढ़
1962   –  15874238 –
1967   –  18393340  – 2519102
1971   –  19578837   – 1185497
1977   –  22782932  – 3204095
1980  – 25186438   – 2403506
1984  –  28143638  – 2957200
1989  –  36890694  – 8747056
1991  –  37708721   – 818027
1996 –  43927252   – 6218513
1998  – 44607368  – 680116
1999  – 46915473   – 2308105
2004 – 38390101  – 8525372
2009 – 38085179  – 304922
2014  – 48117771   – 10032592
2019  – 51402020 – 3284249

( 1 नवंबर 2000 को छत्तीसगढ़ अलग होने से 2004 और 2009 के लोकसभा चुनाव में मतदाता कम हो गए थे। आंकड़े चुनाव आयोग के मुताबिक)

प्रदेश में कभी नहीं हुआ 62 प्रतिषत से ज्यादा मतदान

1962 से 2014 तक के लोकसभा चुनाव के इतिहास को देखे तो कभी भी मतदान का प्रतिशत 62 प्रतिशत से उपर नहीं गया। 1962 में 44.79, 1967 में 53.46, 1971 में 48, 1977 में 54.92, 1980 में 51.85, 1984 में 57.53, 1989 में 55.21, 1991 में 44.36, 1996 में 54.06 फीसदी मतदान हुआ। 1998 में प्रदेश का सर्वाधिक मतदान 61.74 प्रतिशत हुआ लेकिन इसके बाद 1999 में 54.88, 2004 में 48.09 तो 2009 में 51.16 प्रतिशत ही मतदान हो सका। 2014 में आंकड़ा जरूर सुधरा लेकिन 1998 के बराबर फिर भी नहीं पहुंचा। 2014 में 61.57 फीसदी मतदान हो सका था। 1991 में सबसे कम 44.36 तो 1998 में सर्वाधिक 61.74 प्रतिशत मतदान हुआ।

Follow Us

सम्पादक :- मध्यभारत live न्यूज़

%d bloggers like this: