परिवहन अधिकारी का तबादला, गुप्ता को मिला अतिरिक्त प्रभार।

प्राचार्य कर रहे  मनमानी, नहीं कर रहे स्थानांतरित शिक्षकों को कार्यमुक्त,  जनसुनवाई में  होगी शिकायत

कार्यकारी संपादक राकेश साहू
धार। शासकीय हायर सेकेंडरी स्कूल संकुल केंद्र केसूर के प्राचार्य ओम प्रकाश अग्रवाल केसूर में अपनी पदस्थापना के बाद से ही हमेशा सुर्खियों में रहै है। तीन वेतन  वृद्धियां आयुक्त भोपाल द्वारा रोके जाने के बाद तथा कलेक्टर द्वारा स्वेच्छाचारीता व वरिष्ठ अधिकारियों के आदेश की अवहेलना का नोटिस दिए जाने के उपरांत भी इनकी कार्यशैली में कोई सुधार नहीं हुआ है।
ताजा मामला स्थानान्तरण  बोर्ड द्वारा प्रशासकीय रूप से स्थानांतरित किए गए शिक्षकों का है। विभागीय व प्रभारी मंत्री के अनुशंसा पर व कलेक्टर के निर्देश पर ये स्थानान्तरण किए गए हैं।  सहायक आयुक्त आदिवासी विकास द्वारा दिनांक 8 अगस्त को आदेश जारी कर ऐसे शिक्षकों को तत्काल भार मुक्त करने के निर्देश दिए गए हैं।
आदेश की प्रति भी अधिकारी द्वारा ग्रुप पर डाल दी गई है। आदेश में स्पष्ट लिखा है कि किसी भी प्रकार का अवकाश स्वीकृत न किया जाए व अगले माह का वेतन भी स्थानांतरित संस्था से ही आहरित किया जाए।
दिनांक 8  अगस्त को  जारी आदेश के अनुसार  केसूर संकुल के 3 शिक्षकों के स्थानांतरण नालछा  विकास खंड में किए गए हैं, लेकिन केसूर संकुल के विवादित प्राचार्य अग्रवाल  के खास होने के कारण और शुभलाभ के गणित के चलते व वरिष्ठ अधिकारियों के आदेश की अवहेलना  प्राचार्य अग्रवाल द्वारा खुलेआम की जाकर इन्हें कार्यमुक्त नहीं किया जा रहा है। अग्रवाल के द्वारा उनके संकुल अंतर्गत आने वाली शालाओं के शिक्षकों को आज दिनांक तक कार्यमुक्त नहीं किया जा रहा है, जबकि अधिकारी द्वारा ग्रुप पर स्थानांतरण आदेश 10 दिन पूर्व ही डाल दिए गए थे। कन्या हाई सेकेंडरी स्कूल केसूर के 1 शिक्षक का  भी स्थानांतरण नालछा विकासखंड में हुआ है ।
प्राचार्यद्वय कभी आदेश न मिलने का बहाना करते हैं तो कभी शिक्षक नहीं आया ऐसा कहकर टालमटोल कर रहे हैं। अग्रवाल कहते फिर रहे है कि शाला शिक्षक  विहीन हो जाएगी जो गलत है। इस प्रकार की गलत जानकारी देकर भ्रमित कर रहे हैं। जबकि वास्तविकता यह है स्थानांतरित शिक्षकों की शालाओ में पर्याप्त शिक्षक है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार इन शिक्षकों को कार्यमुक्त करने से कोई भी शाला शिक्षक विहीन नहीं हो रही है। सभी जगह स्थानांतरित शिक्षकों को कार्यमुक्त करने के बाद भी नीमा अनुसार पर्याप्त शिक्षक रहेंगे। कन्या स्कूल में तो एक शिक्षक स्थानान्तरित होकर आ भी रहा है। इस प्रकार खुलेआम प्राचार्य ओम प्रकाश अग्रवाल व  संजय उपाध्याय द्वारा मनमानी करते हुए कलेक्टर व सहायक आयुक्त के आदेशों की अवहेलना की जा रही है, जिसकी शिकायत मंगलवार को जनसुनवाई में कलेक्टर महोदय की जायेगी।
क्या कहते है जिम्मेदार
इस संबंध में जब मध्य भारत लाइव की टीम ने शासकीय बालक हाई सेकेंडरी स्कूल केसूर के प्राचार्य ओपी अग्रवाल से मोबाइल पर संपर्क करने की कोशिश की तब उन्होंने फोन रिसीव नहीं किया।
वहीं शासकीय कन्या हाई सेकेंडरी स्कूल केसूर के प्राचार्य संजय उपाध्याय से बात करनी चाहि तब उन्होंने भी मोबाइल रिसीव नहीं किया।
Follow Us

सम्पादक :- मध्यभारत live न्यूज़

%d bloggers like this: