बड़ी लूट का पर्दाफाश आरोपी गिरफ्तार

धार। कुछ ही दिनों पूर्व 7 जनवरी 2019 सोमवार की सुबह 10:00 बजे पीथमपुर क्षेत्र की कॉलोनी में स्थित एक शराब व्यवसाई के यहां उसके ऑफिस पर तीन लुटेरों ने वारदात को अंजाम देते हुए 16 लाख से अधिक रूपए की लूट की थी, जिसमें पुलिस ने पीथमपुर थाना क्षेत्र में दिनदहाड़े हुई लूट का अपराध क्रमांक 10/2019 धारा 392 भादवी के अंतर्गत अपराध पंजीबद्ध किया था, पुलिस ने इस मामले मामले को गंभीरता से लेते हुए। 

     लूट के प्रारंभिक जानकारी के मुताबिक पुलिस ने आसपास के सीसीटीवी कैमरे की छानबीन में पाया कि 1 पल्सर मोटरसाइकिल से तीन बदमाश हाउसिंग बोर्ड कॉलोनी स्थित शराब ऑफिस पहुंचे थे और उनमें से दो बदमाश ऑफिस की पहली मंजिल पर पहुंचे तीसरा बदमाश ऑफिस के नीचे मोटरसाइकिल स्टार्ट करके खड़ा रहा और दोनो बदमाश केसियर को पिस्टल दिखाकर अलमारी में रखे 16 लाख नगद लेकर भाग निकले। नगर पुलिस अधीक्षक पीथमपुर द्वारा लूट की जानकारी कंट्रोल रूम के माध्यम से प्रसारित कर पूरे जिले में नाकाबंदी करवाई गई थी लेकिन बदमाशों का कोई पता नहीं चल सका इस घटना की जानकारी मिलते ही जिला पुलिस अधीक्षक वीरेंद्र कुमार सिंह भी घटना पर पहुंचे वह इस मामले को गंभीरता से लेते हुए अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक इंदौर जोन वरुण कपूर के निर्देश पर पुलिस अधीक्षक महोदय द्वारा बदमाशों पर 5 हजार का इनाम घोषित किया गया।

     अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक सचिन शर्मा के नेतृत्व में टीम गठन कर पुलिस टीम के द्वारा विभिन्न दिशाओं में काम किया गया पिथमपुर एवं आसपास के थाना क्षेत्रों के बदमाशों की धरपकड़ कर करीब 50 बदमाशों से प्रथक प्रथक पूछताछ की गई एवं घटनास्थल और पिथमपुर क्षेत्र के समस्त सीसीटीवी कैमरों की जांच भी की गई पुलिस द्वारा तकरीबन 32 से अधिक सीसीटीवी कैमरा को खंगाला गया जिसमें बदमाशों के अहम फुटेज पुलिस के हाथ लगे साथ ही पुलिस को बदमाशों के आने और लूट करके फरार होने के रूट का मार्ग का भी पता चला घटना के बाद बदमाश जीवन ज्योति कॉलोनी से होते हुए सागोर की ओर भागे थे।

     लूट की संगीन घटना के बाद पुलिस उपमहानिरीक्षक इंदौर अनिल शर्मा द्वारा भी पीथमपुर घटनास्थल का निरीक्षण कर आवश्यक दिशा निर्देश दिए गए थे इस घटना के 1 दिन पूर्व ही 6 जनवरी 2019 की शाम को बेटमा थाना अंतर्गत सागौर कुटी रोड पर कपड़ा व्यापारी जफर पिता जमाल अहमद के गारमेंट शोरूम पर तीन अज्ञात व्यक्तियों द्वारा पिस्टल दिखाकर लूट की घटना को अंजाम दिया गया था। बेटमा थाना प्रभारी योगेंद्र सिंह सिसोदिया के साथ संयुक्त जांच में पुलिस ने पाया की दोनों घटनाओं में एक ही गिरोह का हाथ है। दोनों घटनाओं में सम्मिलित बदमाश सागोर की ओर भागे थे पुलिस टीमों द्वारा इस दिशा में भी काम किया गया व अज्ञात बदमाशों की तलाश के लिए पुलिस ने आसपास के समस्त जिलों के थानों अखबारों इलेक्ट्रॉनिक मीडिया और सोशल मीडिया पर यह खबर प्रसारित की गई ताकि अज्ञात बदमाशों को जल्द से जल्द पकड़ा जा सके।

     पुलिस की टीम द्वारा किए जा रहे लगातार प्रयासों के दौरान अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक सचिन शर्मा को मुखबिर से सूचना मिली कि पीथमपुर में हुई लूट की घटना को इंदौर के बदमाशों द्वारा अंजाम दिया गया इस सूचना के आधार पर नगर पुलिस अधीक्षक सुरेंद्र सिंह बघेल के नेतृत्व में थाना प्रभारी सादलपुर तारेश कुमार सोनी थाना प्रभारी पीथमपुर राजकुमार यादव एवं पुलिस टीम द्वारा बदमाशों की धरपकड़ के लिए इंदौर पहुंचकर जाल फैलाया गया और लूट की सनसनीखेज घटना में शामिल बदमाश रवि उर्फ राहुल पिता भूपेंद्र सिंह राजपूत उम्र 24 साल निवासी आलोक नगर मूसाखेड़ी इंदौर एवं शुभम पिता दिलीप पाल जाति गडरिया उम्र 24 साल निवासी चितावद इंदौर नेमावर रोड से धर दबोचा पुलिस को देखकर बदमाश ने भागने की कोशिश की और नेमावर रोड स्थित और ब्रिज से नीचे कूद गया जिससे उसके पैरों में चोट आई वह पुलिस ने उसे पकड़ लिया। पुलिस के द्वारा लूट की घटना में शामिल दोनो आरोपियों शुभम और रवि को पकड़ लिया गया है घटना में शामिल तीसरा आरोपी रजत पिता सीताराम यादव निवासी द्वारकापुरी इंदौर वर्तमान में जेल में है। आरोपी रजत द्वारकापुरी में की गई छेड़छाड़ के मामले में फरार था और घटना के बाद उसने इंदौर कोर्ट में सरेंडर कर दिया। पुलिस द्वारा की गई पूछताछ में आरोपियों ने लूट की घटना को स्वीकार किया और बताया कि हम तीनों ने रविवार की रात को बेटमा में कपड़े की दुकान पर कपड़े और जैकेट लैपटॉप दो मोबाइल और 2 हजार नगद लुटे और फिर अगले दिन सोमवार को सुबह 10:00 बजे शराब ऑफिस से रुपए एक सोने की अंगूठी और दो मोबाइल पिस्टल दिखा कर लूटे थे घटना के समय शुभम पल्सर मोटरसाइकिल चला रहा था रजत बीच में और रवि पीछे बैठा था फिर हम लोगों ने लूट की राशि का बंटवारा आपस में कर लिया। पुलिस द्वारा दोनों आरोपियों से लूटे गये रुपयों में से 4 लाख 25 हजार और घटना में उपयोग की गई एक देसी पिस्टल और दो जिंदा कारतूस भी बरामद किए गए हैं।

पत्रकार वार्ता के दौरान जिला पुलिस अधीक्षक वीरेंद्र कुमार सिंह ने बताया कि यह लूट की वारदात को अंजाम देने वाले तीनों आरोपी आदतन अपराधी प्रवृत्ति के हैं। आरोपी रवि उर्फ राहुल राजपूत थाना आजाद नगर का सूची बद्ध बदमाश है, इसके विरुद्ध विभिन्न थानों में चोरी नकबजनी लूट और मारपीट के कुल 14 अपराध दर्ज हैं। आरोपी रजत यादव भी द्वारकापुरी थाना का सूची बद्ध अपराधी है, जिसके विरुद्ध विभिन्न थानों में लूट चोरी और छेड़छाड़ के सात अपराध दर्ज हैं। इस सनसनीखेज लूट की घटना में खुलासा करने में उपनिरीक्षक संतोष पाटीदार उपनिरीक्षक गरिमा शाक्यवार प्रधान आरक्षक मुकेश आरक्षक लोकेश, आशीष पारीक, विजय भाटी, करण कुशल एवं दिलीप सर्वेश का सराहनीय योगदान रहा है। 

Follow Us

सम्पादक :- मध्यभारत live न्यूज़

%d bloggers like this: