बिजली कटौती पर घिरी सरकार, प्रदेश में हाहाकार

बिजली कटौती पर घिरी सरकार, प्रदेश में हाहाकार

भोपाल। प्रदेश में लू-लपट व प्रचंड गर्मी के बीच मौसम का पारा चढ़ने के साथ अघोषित बिजली कटौती से सियासत भी एकाएक गरमा गई है। सभी जिला मुख्यालयों और गांवों में बिजली चाहे जब गुल होने से हाहाकार की स्थिति है। आज मंगलवार को मुख्यमंत्री कमलनाथ ने समीक्षा बैठक बुलाई है। ‘बिजली बिल हाफ” का नारा देकर सत्ता में लौटी कांग्रेस सरकार इस मुद्दे पर घिरती नजर आ रही है। सोशल मीडिया पर लोगों का गुस्सा सातवें आसमान पर है।

अघोषित कटौती से आक्रोश बढ़ा 

राजधानी के पॉश इलाके, इंदौर का पोलोग्राउंड अथवा पीथमपुर में खंभे गिरने का मामला हो या फिर सागर, जबलपुर, ग्वालियर, उज्जैन सहित अन्य जिलों के ग्रामीण क्षेत्रों में हो रही अघोषित कटौती से आक्रोश बढ़ रहा है। राहत इंदौरी जैसे शायर भी टि्वटर के जरिए भीषण गर्मी और रमजान के महीने में बत्ती गुल पर सरकार पर तंज कसते हुए बिजली जाने को आम बता रहे हैं।

स्थिति में सुधार लाएं, अन्यथा कार्रवाई के लिए तैयार रहें

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष एवं मुख्यमंत्री कमलनाथ के मीडिया समन्वयक नरेंद्र सलूजा ने कहा है कि प्रदेश के कई जिलों में बिजली संकट की खबरों पर मुख्यमंत्री कमलनाथ ने अधिकारियों पर नाराजगी जताई है। उन्होंने मंगलवार को समीक्षा बैठक बुलाई है। मुख्यमंत्री ने चेतावनी दी है कि स्थिति में सुधार लाएं, अन्यथा कार्रवाई के लिए तैयार रहें। उन्होंने जिम्मेदार अधिकारियों को चेतावनी देते हुए कहा कि किसी भी प्रकार के फॉल्ट या तकनीकी खामी के चलते यदि बिजली वितरण में व्यवधान होता है तो वह समझा जा सकता है, लेकिन बगैर कारण के यदि बिजली गुल रहती है या बिजली कटौती की जाती है तो वह बर्दाश्त नहीं की जाएगी।

बिल नहीं, बिजली आधी

विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव इसे कुशासन बता रहे हैं। उनका कहना है कि कांग्रेस ने चुनाव में वचन दिया था कि सरकार बनने पर बिजली बिल आधा करेंगे, इन्होंने तो बिजली ही आधी कर दी।

भोपाल में रोज 4 घंटे कटौती, 40 फीसदी मेंटेनेंस ही पूरा

राजधानी भोपाल में रोजाना 4 घंटे बिजली बंद रखी जा रही है। बिजली तारों, ट्रांसफार्मरों व उपकरणों के मेंटेनेंस के नाम पर बिजली बंद की जा रही है। यह कटौती 25 जून तक होगी, क्योंकि शहर में मेंटेनेंस का कार्य 40 फीसदी ही पूरा हुआ है। तब तक उपभोक्ताओं को प्रचंड गर्मी में कटौती से जूझना पड़ेगा। उसके बाद राहत मिलेगी। मप्र मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी ने भोपाल सिटी सर्किल में आचार संहिता खत्म होने के बाद कटौती शुरू की है।

Follow Us

सम्पादक :- मध्यभारत live न्यूज़

%d bloggers like this: