भीषण गर्मी में मतदाताओं को लेकर तनाव

भोपाल। मतदाताओं को लुभाने के तमाम प्रयासों के बाद भी चुनाव आयोग और सियासी दल मतदान के लिए वोटरों को घर से निकालने को लेकर तनाव में हैं। प्रदेश की 29 में से 23 लोकसभा सीटों पर मई में तीन चरणों में मतदान होना है। मालवा-निमाड़ में 19 मई को चुनाव होना है। तब गर्मी के तेवर तीखे रहेंगे और पारा लगभग 46 डिग्री के पार होगा।

ऐसे में वोटिंग प्रतिशत पर ही सियासी दलों की हार-जीत टिकी हुई  है, क्योंकि इस बार कोई लहर नहीं है। बुधवार को खरगोन में तापमान 45 डिग्री, धार और खजुराहो में 44 डिग्री सेल्सियस रहा है। जबकि ग्वालियर में 43 डिग्री तापमान रिकॉर्ड हुआ है। इसके अलावा प्रदेश के अन्य शहरों में 42 और 41 डिग्री तापमान रहा है। सिर्फ होशंगाबाद जिले के पचमढ़ी कस्बे में 38 डिग्री तापमान रहा।

चुनाव आयोग ने इस बार प्रदेश में मतदान 10 फीसदी बढ़ाने का लक्ष्य रखा है, लेकिन इसमें गर्मी बड़ी बाधा बनेगी। सबसे ज्यादा दिक्कत मप्र के चौथे चरण के मतदान में आएगी। इस चरण में मालवा-निमाड़ में 19 मई को मतदान होना है। तब गर्मी चरम पर रहेगी।

ऐसे में मतदाताओं को घरों से निकालना बड़ी चुनौती है। पिछले 28 साल के लोकसभा चुनाव के मतदान के प्रतिशत पर नजर डालें, तो पता चलता है कि 1998 में अटल लहर और 2014 में मोदी लहर के चलते 61 फीसदी से ज्यादा मतदान हुआ था। शेष चुनाव में 55 फीसदी से कम वोटिंग रही है। इस बार भी कोई लहर नहीं है। मतदाता का रुख भी समझ नहीं आ रहा है।

सिर्फ आयोग ही नहीं, पिछले चुनाव के मुकाबले इस बार मतदान प्रतिशत को लेकर सियासी दल भी तनाव में हैं। देश में पहले, दूसरे और तीसरे चरण के मतदान के प्रतिशत ने भी सियासी दलों के गुणा-भाग को बिगाड़ दिया है। तीसरे चरण में 66.4 प्रतिशत वोटिंग हुई है, जो 2014 के मुकाबले चार प्रतिशत कम है। चुनाव आयोग और राजनीतिक दलों की चिंता रमजान को लेकर भी है। चिंता का कारण इबादत में व्यस्त मुस्लिम मतदाताओं को घरों से निकालने की है।

चुनाव आयोग ने पिछले चुनाव की तुलना में 10 फीसदी मतदान बढ़ाने की लक्ष्य रखा है। इस हिसाब से प्रदेश में 71 फीसदी मतदान होना चाहिए। इसके लिए आयोग मैदानी स्तर पर जोर-शोर से मतदाताओं को लुभाने में जुटा है। जिला निर्वाचन अधिकारी नवाचार कर मतदाताओं को मतदान के लिए प्रेरित कर रहे हैं, तो मतदान केंद्रों पर ठंडे पानी, कूलर-पंखे, कतार में लगने वाले मतदाताओं के लिए छांव (टेंट) की व्यवस्था कर रहे हैं।

कोशिश यह है कि बीमार और दिव्यांग मतदाताओं को भी लाकर मतदान कराया जा सके। ऐसे ही मतदाताओं को लुभाने के लिए गुना में पांच सौ आकाशदीप छोड़े गए, तो जबलपुर में रेडियम से स्लोगन लिखी टी-शर्ट लोगों को पहनाई गईं। ताकि मतदाता मतदान के लिए प्रेरित हो। वहीं प्रत्याशी और राजनीतिक दल बूथ लेवल पर अपने पक्ष में मतदान कराने के लिए मतदाताओं को निकालने की कोशिश में जुटे हैं।

Follow Us

सम्पादक :- मध्यभारत live न्यूज़

%d bloggers like this: