मांडव उत्सव में आए 22 साल की उम्र के वायु सेना के पायलेट

सक्षम ने जनवरी 2018 में ज्वाइन की थी वायू सेना, 15 दिसंबर 18 में हासिल किया प्रेसिडेंट कमीशन

धार। बहुत ही कम उम्र में अपने माता-पिता का सपना एवं अंतिम इच्छा पूरी करने वाले फ़्लाइंग ऑफिसर वायू सेना के फाइटर प्लेन उड़ाने वाले महू निवासी सक्षम अग्रवाल गुरुवार को मांडव उत्सव का आंनद लेने पहुँचे। यह अपने ननिहाल पक्ष धार आये और अपने मामा एवं मामी के साथ पर्यटन नगरी मांडू घूमने गए। मांडव में हो रही विभिन्न गतिविधियों का उन्होंने लुफ्त उठाया।

मध्यभारत लाइव के साथ बातचीत में सक्षम ने बताया की उन्होंने अपनी शुरुआती शिक्षा आर्मी स्कूल ऑफ महू से की है। पेट्रोलियम यूनिवर्सिटी ऑफ़ देहरादून से ग्रेजुएशन में कंप्यूटर साइंस से बीटेक किया है। उन्होंने बताया शुरु से ही उनके माता पिता का सपना था कि वे एयर फोर्स ज्वाइन करें। परन्तु नवंबर 2016 में उनके माता-पिता की एक कार दुर्घटना में मृत्यु हो गई। जिसके बाद से उनके सपने को उनकी अंतिम ईच्छा समझ कर पूरा करने के लिए जी तोड़ मेहनत की। और परिणाम ये हुआ की 1 जनवरी 2018 में उनका सिलेक्शन हैदराबाद एकेडमी में हो गया। एक ही साल में अपनी ट्रैनिंग अच्छी तरह पूरी की और उन्हें 15 दिसंबर 2018 को प्रेसिडेंट कमिशन से चिफ ऑफ आर्मी स्टाफ के ऑफिसर विपिन रावत ने सम्मानित किया।

      सक्षम ने बताया धार से उनका पुराना नाता है। धार में उनके मामा एडवोकेट महक अग्रवाल रहते हैं। बचपन में छुटि्टयों में वे अक्सर धार आया करते थे। उन्होंने कहा वायू सेना ज्वाइन करने के बाद धार आकर मेरी बचपन की यादें वापस ताजा हो गई। परिजनों से मिलने पर बेहद ख़ुशी मिली हैं। सक्षम ने बताया उन्होंने अपनी ट्रैनिंग पीटालाइस पीसी-7 एयरक्राफ्ट से पूरी की। अब वे फायटर प्लेन हॉक्स उड़ाते हैं। भारतीय वायू सेना में शामिल होने वाले सभी नई टेक्नॉलोजी के प्लेन उड़ाने का मौका उन्हें मिलेगा।

     सबसे बड़ी बात ये है की सक्षम अभी सिर्फ 23 वर्ष के है। माता-पिता के जाने के बाद भी उन्होंने ने अपने आप टूटने नहीं दिया और उनके सपने को पूरा किया। सक्षम अभी बेचलर है।  

Follow Us

सम्पादक :- मध्यभारत live न्यूज़

%d bloggers like this: