रपट पर बहने से मासूम की मौत। कौन है इसका जिम्मेदार?

धार-बदनावर। बच्चे की नदी में बहने के कारण मौत हो गई थी। इस मामले में माली समाज के साथ-साथ अन्य समाजजनों द्वारा मौन रैली निकालकर एसडीएम को ज्ञापन दिया।

सुबह अस्पताल से शव परीक्षण होने के बाद उस बालक का नागेश्वर मुक्तिधाम पर अंतिम संस्कार किया गया। अंतिम यात्रा में बड़ी संख्या में समाज जन  व अन्य लोग शामिल हुए। अंतिम संस्कार होने के बाद  मुक्तिधाम से समाजजन मौन रैली निकालकर बस स्टैंड पहुंचे। जहां एसडीएम सुश्री नेहा साहू को ज्ञापन दिया गया।

ज्ञापन में माथुर कालोनी के कालोनाईजर, सब इंजिनियर एवं ठेकेंदार के विरूद्ध कार्यवाही कर मामला दर्ज करने एवं सरकारी अस्पताल में पदस्थ सीबीएमओ एसएल मुजाल्दा के मुख्यालय पर अनुपस्थित रहने पर सख्त कार्रवाही कर निलंबित करने की मांग की गई।

सुश्री  साहू को बताया गया कि कालोनी स्थित बलवंती नदी पर बिना रेलिंग वाली रपट पर 10 वर्षिय माशूम बच्चा तुषार सोलंकी नदी में बहकर चला गया था। जिससे उसकी मौत हो गई। इस हादसे में सम्बंधि कॉलोनाइजर भी जिम्मेदार है। उसकी लापरवाही के चलते यह हादसा हुआ है।अगर रपट पर ध्यान नही दिया गया तो आगे भी हादसे होने का डर बना रहेगा। साथ ही जब बच्चे को अस्पताल ले जाया गया तो वहाँ डॉक्टर नदारद थे।

ज्ञापन का वाचन संतोष चौहान द्वारा किया गया। इस मौके पर माली समाज अध्यक्ष राधेश्याम हारोड, पूर्व नप अध्यक्ष प्रेमचंद परमार, पार्षद दीपक जाधव, परमानंद पहलवान समेत बड़ी संख्या में समाज के लोग उपस्थित रहे।

सांसद निधि से बनाइ गई थी यह घटिया रपट

इस रपट की गुणवत्ता पर भी अब सवाल खड़े हो रहे है। साथ ही रपट पर रेलिंग भी नही लगी है। कालोनी नदी के समीप स्थित है। किंतु कालोनिनाइजर द्वारा सुरक्षा के लिए किनारे पर बाउंड्रीवाल भी नही करवाई गई। जरा सा ध्यान चूकते ही बड़ा हादसा हो सकता है। इस कालोनी के लिए सांसद सावित्री ठाकुर ने रपट निर्माण के लिए सांसद निधि से 10 लाख रू. दिए थे। लोगो ने इसकी जांच की मांग की है।

इस रपट पर रेलिंग लगाने की मांग सालभर पहले भी लोगो ने की थी। गत वर्ष भी एक पीकअप गाड़ी नदी में गिर गई थी। किन्तु न नगर पंचायत ने इस ओर ध्यान दिया और न ही कालोनाइजर ने ध्यान दिया। अगर रेलिंग लगी होती तो शायद बच्चा बच सकता था।

निजी स्कूल में पढ़ता था बच्चा, श्रद्धांजलि दी

मृतक बच्चा प्रताप विद्या निकेतन का छात्र था जो कक्षा चौथी में पढ़ता था। निधन पर स्कुल परिवार में शोक की लहर छा गई। विद्यालय में शोक सभा रखी गई व श्रद्धासुमन अर्पित किए। प्राचार्य फरीदा बोहरा ने विद्यार्थियों को निर्देश दिये कि दो पहिया वाहन को सावधानी से चलाए। बारिश मे पुलिया व रपट पर न जायें। जिंदगी अनमोल हैं इसे सहेज कर रखें।

एसडीएम ने की आर्थिक सहायता राशि मंजूर

बच्चे की मौत पर एसडीएम सुश्री नेहा साहू ने 4 लाख रुपए की आर्थिक सहायता राशि मंजूर की है। सुश्री साहू ने बताया कि राशि मंजूर कर दी गई है। 2 दिन तक लगातार बैंक बन्द होने के कारण राशि मंगलवार को मृतक के परिजनों के बैंक खाते में डाल दी जाएगी। उन्होंने कहा कि इस घटनाक्रम को लेकर जांच की जायेगी। जो भी इस घटना का दोषी होगा उसके खिलाफ शख्त कार्रवाई की  जायेगी। चाहे वह कोई भी हो

Follow Us

सम्पादक :- मध्यभारत live न्यूज़

%d bloggers like this: