भरण पोषण देने में सक्षम नहीं —

यह पूरा मामला है उस आवेदन का जो भरण-पोषण के एक केस में शुक्रवार को कुटुंब न्यायालय में पेश हुआ। कोर्ट ने इसे रिकॉर्ड में लेते हुए बहस के लिए 29 अप्रैल तय कर दी। आवेदन देने वाले सुखलिया निवासी आनंद शर्मा का पत्नी दीपमाला से पारिवारिक विवाद चल रहा है। गत 12 मार्च को न्यायालय ने आनंद को आदेश दिया कि वे हर महीने पत्नी को तीन हजार रुपए और बेटी आर्या (12) को डेढ़ हजार रुपए भरण-पोषण के लिए अदा करें। प्रधान न्यायाधीश के समक्ष पेश आवेदन में आनंद ने कहा कि उसकी मंशा न्यायालय के आदेश की अवहेलना करना नहीं है, लेकिन बेरोजगारी के कारण उसके लिए भरण-पोषण दे पाना संभव नहीं है।