15 दिन में जानकारी न देने पर परियोजना होगी निलंबित

रेरा एक्ट की समीक्षा के लिये 20 फरवरी को सेमीनार

भोपाल। रेरा एक्ट के बारे में जन-सामान्य में जागरूकता बढ़ाने तथा मैदानी स्तर पर क्रियान्वयन की समीक्षा के लिये मध्यप्रदेश भू-संपदा विनियामक प्राधिकरण (रेरा) द्वारा 20 फरवरी 2019 को छिंदवाड़ा में सेमीनार किया जायेगा। सेमीनार दोपहर 2 से शाम 5 बजे तक छिन्दवाड़ा के होटल जे.पी.इन. के सभागार में होगा।

सेमीनार में रेरा से जुड़े छिंदवाड़ा के निकटवर्ती बैतूल तथा सिवनी जिलों के पक्षकारों को आमंत्रित किया गया है। रेरा अध्यक्ष ॲन्टोनी डिसा पक्षकारों से अधिनियम के क्रियान्वयन के संबंध में संवाद करेंगे और उन्हें मार्गदर्शन देंगे। रेरा के सदस्य (तकनीकी) अनिरूद्ध कपाले भी मौजूद रहेंगे।

सेमीनार में छिंदवाड़ा, सिवनी तथा बैतूल जिले के रियल स्टेट से जुड़े संप्रवर्तक, बिल्डर, रियल स्टेट एजेन्ट, वास्तुविद्, चार्टर्ड एकाउंटेंट, इन्जीनियर्स, उपभोक्ता मामलों से जुड़े एडवोकेट, उपभोक्ताओं, संस्थाओं के प्रतिनिधियों में से इच्छुक व्यक्तियों को विशेष रूप से आमंत्रित किया गया है। साथ ही, संबंधित जिले एवं अनुविभाग में कॉलोनी विकास से संबंधित अनुविभागीय अधिकारी (राजस्व), मुख्य नगर पालिका अधिकारी, नगर तथा ग्राम निवेश, पंजीयन विभाग, हाउसिंग लोन से संबंधित बैंक से जुड़े विभिन्न विभाग के अधिकारियों को भी सेमीनार में आमंत्रित किया गया है।

उल्लेखनीय है कि प्रदेश में रेरा एक्ट के क्रियान्वयन में प्रदेश के चार बड़े महानगरों के अलावा सर्वाधिक प्रोजेक्ट छिंदवाड़ा जिले में ही पंजीकृत हुए हैं। बैतूल और सिवनी जिलों में भी काफी संख्या में प्रोजेक्ट पंजीकृत हुए हैं, जो इस अंचल में रेरा एक्ट के पालन के प्रति पक्षकारों की जागरूकता एवं रूचि प्रदर्शित करता है।

Follow Us

सम्पादक :- मध्यभारत live न्यूज़

%d bloggers like this: