सीताफल क्यों खाना चाहिए ? क्या होते हैं इसके फ़ायदे!

सीताफल क्यों खाना चाहिए ? क्या होते हैं इसके फ़ायदे!

सीताफल जहॉ भी दिख जाये खाना जरूर

धार । जहां एक और प्राचीन युग से ही भारतवर्ष मैं फलों को अधिक महत्व दिया गया है। जिसमें कई फल शामिल है जैसे फलों के राजा के रूप में आम को देखा जाता है, वैसे ही अमरूद अनार रामफल जैसे फल शामिल है वही एक और सीताफल एक ऐसा फल है जिसका उपयोग आयुर्वेद में भी किया जाता है। यह फल अधिकांश मालवा व् निमाड़ क्षेत्र में ही पाया जाता है। 

इस फल की विशेषताएं –

यह फल बंजर भूमि में भी अपने आप को सहज रूप से विकसित करता है,  इस  फल से कई  लोगो को रोजगार भी प्राप्त होता है मौसमी फल होने के कारन इस फल की मांग न सिर्फ सम्पूर्ण भारतवर्ष में की जाती है बल्कि विदेशो में भी इस फल को लेकर काफी मांग है,
वैसे तो इस फल में कई विशेषताएं मौजूद है जैसे सीताफल एक ऐसा फल है जो सर्दी के मौसम में बाजारों में मिलता है । सीताफल को इंग्लिश में कस्टर्ड एप्पल कहते है और शरीफा नाम से भी ये फल जाना जाता है । सीताफल ये अनगिनत औषधियों में शामिल है ये फल पकी हुई अवस्था में बहार से सख्त और अंदर से नरम और बहुत ही मीठा होता है । आजकल सीताफल की बासुंदी शेक और आइसक्रीम भी मिलते है । यह हमारे सेहत के लिए बहुत ही अच्छा होता है । इसमें विटामिन होता है इसके अलावा इसमें नियासिन विटामिन ए राइबोफ्लेविन थियामिन ये तत्व होते है इसके खाने से हमें आयरन कैल्शियम मॅग्नीज़ मैग्नेशियम पोटैशियम और फोस्फरस मिलते है । खास बात यह है कि सीता फल में आयरन अधिक मात्रा में होता है । इसके अन्दर मौजूद पोटैशियम और मैग्नेशियम ह्रदय के लिए बहोत ही अच्छा होता है, मैग्नेशियम शरीर में पानी की कमी नहीं होने देता हैं। इसमें फाइबर की प्रचुर मात्रा होने से ब्लड प्रेशर अच्छा रहता है । इससे कोलेस्ट्रॉल भी कम होता है । इसमें विटामिन और आयरन खून की कमी को दूर करके हीमोग्लोबिन बढ़ता है ।

सीताफल का लाभ नम्बर एक :-
अगर आपको कब्ज की समस्या हो तो सीताफल से ये दूर हो सकती है । सीताफल में पर्याप्त मात्रा में कॉपर तथा फायबर होते होते हैं जो मल को नरम करके कब्ज की समस्या को मिटा सकते है । इसके उपयोग से पाचन तंत्र भी मजबूत होता है ।

सीताफल का लाभ नम्बर दो :-
गर्भवती महिला के लिए सीताफल खाना लाभदायक होता है इससे कमजोरी दूर होती है, उल्टी व जी घबराना ठीक होता है । सुबह की थकान में आराम मिलता है, शिशु के जन्म के बाद सीताफल खाने से ब्रेस्ट दूध में वृद्धि होती है ।

सीताफल का लाभ नम्बर तीन :-
यदि आप कमजोर हो या आपको वजन बढ़ाना हो तो सीताफल का भरपूर उपयोग करना चाहिए। इसमें प्राकृतिक शक्कर अच्छी मात्रा में होती है। जो बिना किसी नुकसान के वजन बढ़ाकर व्यक्तित्व आकर्षक दे सकती है । इसके नियमित सेवन से पिचके हुए गाल और कूल्हे पुष्ट होकर सही आकार में आ जाते हैं और व्यक्तित्व में निखार आता है ।

सीताफल का लाभ नम्बर चार :-
सीताफल के पेड़ की छाल में पाए जाने वाले टैनिन के कारण इससे दांतों और मसूड़ों को लाभ मिलता है । सीताफल दांत और मसूड़ों के लिए फायदेमंद होता है । इसमें पाया जाने वाला कैल्शियम दांत मजबूत बनाता है।। इसकी छाल को बारीक पीस कर मंजन करने से मसूड़ों और दांत के दर्द में लाभ होता है । यह मुंह की बदबू भी मिटाता है ।

सीताफल का लाभ नम्बर पाँच :-
सीताफल में पाए जाने वाले विटामिन ‘ए’, विटामिन ‘सी’, तथा राइबोफ्लेविन के कारण यह आँखों के लिए फायदेमंद होता है। यह नेत्र शक्ति को बढ़ाता है तथा आँखों के रोगों से भी बचाव करता है । जिन लोगों का काम ज्यादा लैपटोप प्रयोग वाला होता है उनके लिये इस फल का नियमित सेवन करना बहुत ही अच्छा लाभकारी रहता है ।

सीताफल का लाभ नम्बर छः :-
यह मानसिक शांति देता है तथा डिप्रेशन तनाव आदि को दूर करता है । कच्चे सीताफल के क्रीम खाने से दस्त व पेचिश में आराम आता है। कच्चे क्रीम को सूखा कर भी रख सकते है। जरुरत पड़ने पर इसे भिगो कर खाने पर यह दस्त मिटाने में उपयोगी होता है ।
सीताफल खाने से मिलने वाले स्वास्थय लाभों की जानकारी वाला यह लेख आपको अच्छा और लाभकारी लगा हो तो कृपया लाईक और शेयर जरूर कीजियेगा । आपके एक शेयर से ही किसी जरूरतमंद तक सही जानकारी पहुँचती है

Follow Us

सम्पादक :- मध्यभारत live न्यूज़

%d bloggers like this: