हिंदू विरोधी टिप्पणी करने पर मंत्री को बर्खास्त किया

हिंदू विरोधी टिप्पणी करने पर मंत्री को बर्खास्त किया

Share Post & Pages

लाहौर। पाकिस्तान के पंजाब प्रांत की सरकार ने अपने सूचना और संस्कृति मंत्री फयाजुल हसन चौहान को बर्खास्त कर दिया हे है। हिंदू विरोधी बयान देने के बाद अल्पसंख्यक समुदाय और पार्टी के वरिष्ठ नेताओं की तरफ से काफी आलोचना होने के बाद यह कदम उठाया गया था। पार्टी सूत्रों के मुताबिक, प्रधानमंत्री इमरान खान ने चौहान की हिंदू विरोधी’ टिप्पणी को गंभीरता से लेते हुए पंजाब के मुख्यमंत्री उस्मान बुजदार को उन्हें हटाने का निर्देश दिया था।

चौहान ने पुलवामा आतंकी हमले के बाद 24 फरवरी को एक सभा को संबोधित करते हुए आपत्तिजनक टिप्पणी की थी। उन्होंने हिंदुओं को गाय की पेशाब पीने वाले लोग कह दिया था। इमरान की तहरीक-ए-इंसाफ पार्टी के आधिकारिक अकाउंट से किए गए ट्वीट के मुताबिक, हिंदू समुदाय के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी करने के आरोप में पंजाब सरकार ने सूचना एवं संस्कृति मंत्री फयाजुल हसन चौहान को पद से हटा दिया है।

पंजाब के मुख्यमंत्री के एक प्रवक्ता ने कहा कि चौहान ने मुख्यमंत्री को अपना इस्तीफा सौंप दिया, जिसे तुरंत स्वीकार कर लिया गया। एक वरिष्ठ सरकारी अधिकारी ने बताया कि मुख्यमंत्री ने सार्वजनिक रूप से अपनी टिप्पणी के लिए माफी मांगी थी। उन्होंने कहा था कि उनकी टिप्पणी पाकिस्तान के हिंदू समुदाय के खिलाफ नहीं थी, बल्कि उनके बयान के निशाने पर भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, भारतीय सेना और वहां की मीडिया थी।

पाकिस्तान में रहने वाले हिंदू समुदाय को अगर मेरी टिप्पणियों से आघात पहुंचा है तो मैं इसके लिए माफी मांगता हूं। इसके बाद चौहान को माफ कर दिया था। मगर, प्रधानमंत्री के दखल के बाद उन्हें मंत्रालय से हटाना पड़ा। गौरतलब है कि 75 लाख की आबादी वाला हिंदू समुदाय पाकिस्तान का सबसे बड़ा अल्पसंख्यक समुदाय है, जिनमें से अधिकांश सिंध प्रांत में रहते हैं।

सोमवार को चौहान की टिप्पणी के जवाब में राजनीतिक मामलों के प्रधानमंत्री के सलाहकार नईमुल हक ने कहा कि पाकिस्तान की तहरीक-ए-इंसाफ सरकार इस बकवास को कतई बर्दाश्त नहीं करेगी। वहीं पाकिस्तान के वित्त मंत्री उमर ने भी हसन के बयान की आलोचना की थी। उन्होंने ट्वीट किया, हिंदू समुदाय पाकिस्तान का अहम हिस्सा है। यह ध्यान रखना चाहिए कि पाकिस्तान के झंडे का हरा रंग सफेद के बिना पूरा नहीं होता है। यह अल्पसंख्यकों का प्रतिनिधित्व करता है।

Follow Us Social media

सम्पादक :- मध्यभारत live न्यूज़