हिंदू समाज को तोड़ने वाली शक्तियों को दिया मुंहतोड जवाब

हिंदू समाज को तोड़ने वाली शक्तियों को दिया मुंहतोड जवाब

हिंदू समाज को तोड़ने वाली शक्तियों को दिया मुंहतोड जवाब,दिग्ठान देवल मठ बना समरसता की मिसाल बना। 

धार-दिग्ठान। महाशिवरात्रि के पावन पर्व पर आदिगुरु शंकराचार्य एकात्मता महारुद्र अभिषेक का अनुठा और प्रेरणादायक कार्यक्रम संपन्न हुआ। तीन वर्षों के लगातार प्रयास का असर दिखने लगा है। यह महारुद्र अभिषेक समरसता के लिये चलाया जा रहा है, जिसमे सभी समाज के लोग सम्मिलित होते है। जिस प्रकार आदिगुरु शंकराचार्य ने भारत की भौगोलिक सीमाओं को अखंड रखने के लिये चारों दिशाओं में चार मठों की स्थापना की थी,उसी प्रकार देशभर में विद्यमान लाखों मठ मंदिर भी हिंदू समाज को एकात्म व अखंड रखने का पवित्र कार्य कर रहे हैं। उसी एकात्मता के संकल्प को लेकर दिग्ठान के देवल मठ ने अनोखी पहल करते हुए विगत तीन वर्षों से प्रयास कर रहा हैं जिसका समाज में सकारात्मक असर दिखने लगा हैं।

आदिगुरु शंकराचार्य महारुद्र अभिषेक में उपस्थित राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ के प्रांत संपर्क प्रमुख तथा स्वदेश समाचार पत्र के संपादक श्री दिनेशजी गुप्ता ने कहा की मठ मंदिर समाज को एकरुप मे बांधने तथा समरसता का एक बहुत बडा केन्द्र होते हैं। मठ मंदिरों से किये जाने वाले प्रयास वास्तव में समाज में एकात्मता का सकारात्मक परिवर्तन लाते हैं। जिससे की समरस भारत समर्थ भारत के हमारे लक्ष्य की और बढते हैं।

देवल मठ के महंत विजय गोस्वामी ने बताया की मुक्तेश्वर महादेव मंदिर देवल मठ पर आयोजित महारुद्र अभिषेक में मालवीय समाज, जाटव समाज, बलाई समाज, ब्राह्मण समाज, कुशवाह समाज, राजपुत समाज, खाती समाज, मराठा समाज, जाट समाज, जायसवाल समाज, गायरी समाज, माहेश्वरी समाज, जैन समाज,पाटीदार समाज, आंबेडकर संगठन के समाज बंधु ने सपरिवार जोडे सहित शामिल होकर बाबा भोलेनाथ का अभिषेक कर समरसता की मिसाल पेश की है।

इस महान पुनीत कार्य महारुद्र अभिषेक में राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ के प्रांत संपर्क प्रमुख तथा स्वदेश के संपादक श्री दिनेश जी गुप्ता, राष्ट्रसेविका समिति की प्रांत सेवाप्रमुख श्रीमती बीना गुप्ता, राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ के विभाग प्रचारक श्री निखिलेशजी माहेश्वरी, सेवाभारती के प्रांत संगठनमंत्री रुपसिंगजी नागर और दसनाम गोस्वामी समाज के प्रदेश अध्यक्ष महंत निलेश भारती का मार्गदर्शन प्राप्त हुआ। आदिगुरु शंकराचार्य एकात्मता महारुद्र अभिषेक में वरिष्ठ समाजसेवी श्री रमेशजी वशिष्ठ, मनोहर दण्डवते, रजनजी व्यास, जगदीशजी कुशवाह,दिनेश कुशवाह, राधेश्याम पहलवान, किशन प्रजापत, मुकेश सोनी, सत्यनारायण परमार, बसंतरावजी मुरमकर, सुभाष जी राठौर, सुन्दरलाल ठाकुर, नारायण पाटीदार, बहादुर पटेल सहित सेकडों की संख्या में माता बहने शामिल हुई। 

Follow Us

सम्पादक :- मध्यभारत live न्यूज़

%d bloggers like this: