ट्रैक्टर की सवारी के साथ 6 किमी पैदल चले कलेक्टर

धार। ट्रेक्टर की सवारी करने के साथ-साथ लगभग छः किलोमीटर पैदल चलकर, पहाड़ी चढ़कर बगैर सुरक्षा इंतजाम और बगैर फॉरेस्ट विभाग की टीम के बूढ़ी मांडव घने जंगल में पहुंचे जिला कलेक्टर आलोक कुमार सिंह।

आपको बता दें कि मांडव जितनी सुंदर व विश्व विख्यात हैं उतनी ही पुरातात्विक महत्व रखने वाली एक बूढ़ी मांडव भी है, जो मांडव से करीब 10 – 15 किलोमीटर नीचे घने जंगल में स्थित है। पुरातत्विक शैली, विभिन्न मूर्तियों तथा आकर्षित करने वाले वातावरण की इस बूढ़ी मांडव को विकसित करने की दृष्टि से कलेक्टर आलोक कुमार सिंह एवं जिला पंचायत सीईओ आज दोपहर करीब 2:30 बजे के लगभग मांडव के नीचे पहुंचे प्राकृतिक सौंदर्य को देख बोले यह तो अद्भुत है।

जिला कलेक्टर ने यहां बनी हुई बावड़ियों को देख कर इन्हें गहरी करने का कहा, जिससे इन बावड़ियों से संभावित पुरातन मूर्तियां निकल सके। श्री सिंह ने यहां के प्राकृतिक नजारे को देख जल्द यहां पर्यटकों के आने के लिए इसे सुविधायुक्त बनाने के लिए कहा और साथ ही यहां तक पहुचने के लिए लगभग छह किलोमीटर सड़क का निर्माण शीघ्र ही करने के निर्देश दिए। कलेक्टर ने सड़क के किनारे बाउंड्रीवाल भी बनाने के लिए कहा। इससे पहाड़ो से गिरने वाला पानी सड़क पर न आ पाए।

कलेक्टर श्री सिंह ने यहां स्थापित भगवान की बड़ी मूर्तियों को देख उनकी तारीफ भी की। उन्होंने पुरातत्व विभाग के अधिकारी को निर्देश दिए कि यहां की कई अच्छी मूर्तियों को धार किले में स्थित म्यूजियम में पहुँचावे, जिससे लोगो को इतनी सुंदर मूर्तिया धार में भी देखने को मिले। श्री सिंह ने यहां की पुरानी गाथाओं की जानकारी भी प्राप्त की। उन्होंने कहा की यह पौराणिक जगह पर्यटकों को अत्यंत लुभाएगी। इस जगह को ऐसा डेवलप किया जाए जिससे यहां अधिक संख्या में पर्यटक पहुँचकर इसकी पौराणिक गाथाएं, इसका इतिहास और यहां के वातावरण को देख सके।

Follow Us

सम्पादक :- मध्यभारत live न्यूज़

%d bloggers like this: