Agneepath, Madhya Pradesh Police also in action mode

Agneepath, Madhya Pradesh Police also in action mode

अग्निपथ, मध्य प्रदेश पुलिस भी एक्शन मोड में

नई दिल्ली। जंहा एक और हमारे देश की सेना साफ कह चुकी है कि अग्निपथ योजना वापस नहीं होगी। इसके बावजूद सोमवार को कुछ संगठनों ने भारत बंद का ऐलान किया है। बिहार, झारखंड और बंगाल में इसका मिला जुला असर देखने को मिला है।

आपको बता दे की सोशल मीडिया के माध्यम से भारत बंद की अपील की गई है। इसे देखते हुए बिहार, झारखंड, पंजाब समेत अन्य राज्यों में सुरक्षा के पुख्ता बंदोबस्त किए गए हैं। बिहार के 20 जिलों में इंटरनेट सेवा बंद है। मुजफ्फरपुर में धारा 144 लगाई गई है और अफवाहों को रोकने के लिए इंटरनेट भी बंद कर दिए गए है। यहां 6 कोचिंग सेंटर्स के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है। अब तक पूरे बिहार से कुल 804 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है। आज भी 300 से अधिक ट्रेन रद्द रहेंगी। पंजाब में भी अलर्ट जारी है। झारखंड के रांची में आज स्कूल भी बंद हैं। वहीं नोएडा में भी पुलिस सख्त दिखाई दे रही है।

युवाओं को बरगला रही कांग्रेस

कृषि कानून वापस लिए जाने के बाद अग्निपथ योजना को लेकर इसी तरह का राजनीतिक दबाव बनाने वाली कांग्रेस पर बीजेपी ने विवादों में सेना को घेरने का आरोप लगाया है। बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा ने कहा है कि इन्हीं लोगों ने पहले सर्जिकल स्ट्राइक और एयर स्ट्राइक पर भी सवाल उठाकर सेना का मनोबल गिराने का काम किया है। अब सेना में भर्ती को लेकर सियासी खिचड़ी पक रही हैं। जंतर मंतर पर कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी वाड्रा के भाषण का जिक्र करते हुए संबित ने कहा, “उन्होंने खुद कहा है कि कांग्रेस का उद्देश्य नरेंद्र मोदी सरकार को गिराना है।” इसके लिए कांग्रेस युवाओं को बरगला रही है, कई बार ऐसे असफल प्रयास कर चुकी है।

मध्य प्रदेश पुलिस भी एक्शन मोड में

मध्यप्रदेश में भी पुलिस ने कमर कस ली है। अगर किसी भी प्रकार से किसी संगठन या समुदाय द्वारा अशांति फैलाने या उपद्रव एवं दंगे फैलाने की कोशिश की तो उन्हें छोड़ा नहीं जाएगा। सोशल मीडिया आदि प्लेटफार्म पर पुलिस की विशेष शाखा द्वारा विशेष ध्यान रखा जा रहा है। किसी भी प्रकार के अनर्गल या अशांति फैलाने जैसे पोस्ट पर संबंधित के खिलाफ दंडात्मक कार्यवाही की जाएगी।

विशेष शाखा के वरिष्ठ अधिकारियों के सख्त निर्देश है कि कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए हर संभव प्रयास किए जाएं। कानून व्यवस्था बिगाड़ने वाले व्यक्तियों को चिन्हित कर तत्काल उनके विरुद्ध प्रभावी वैधानिक एवं प्रतिबंधात्मक कार्यवाही की जाए। साथ ही अंतर्राज्यीय बस स्टैंड एवं रेलवे स्टेशन पर उचित सुरक्षा व्यवस्था लगाकर प्रदर्शनकारियों पर विशेष निगरानी रखी जाए। कहीं पर भी हो रहे प्रदर्शन एवं विरोध प्रदर्शन की व्यापक फोटोग्राफी एवं वीडियोग्राफी की जाए। जिससे उपद्रवियों को आसानी से पहचाना जा सके एवं उन पर प्रभावी कार्यवाही की जा सके।

Follow Us

सम्पादक :- मध्यभारत live न्यूज़

%d bloggers like this: