madhyabharatlive

"with the truth"

Campaign continues till all land is freed from land mafia, CM.

भू-माफिया से सभी जमीन मुक्त होने तक अभियान जारी, CM

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने जबलपुर और धार जिला प्रशासन को दी बधाई। 

भोपाल जनसम्पर्क। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि  प्रदेश को भू-माफियाओं से मुक्त करने का अभियान तब तक जारी रहेगा, जब तक कि भू-माफिया के कब्जे से सभी जमीनें मुक्त नहीं करा ली जातीं। उन्होंने कहा कि जमीन सरकारी हो या नागरिकों की, किसी का भी हक छीनने वाले या कानून से खिलवाड़ करने वाले तत्वों को मध्यप्रदेश की धरती पर बख्शा नहीं जाएगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने अवैध तरीके से जमीन पर कब्जा कर निर्माण करने वाले भू-माफियाओं पर कार्रवाई के लिए जबलपुर और धार जिला प्रशासन की टीम को बधाई दी है।

जबलपुर जिला प्रशासन ने आधारताल के कुदवारी में माफिया के कब्जे से करीब पाँच करोड़ की ढ़ाई एकड़ शासकीय सीलिंग की भूमि को मुक्त कराया। इस दौरान प्रशासन ने 90 लाख रुपये का निर्माण भी ध्वस्त किया। धार जिले में भू-माफिया के खिलाफ बड़ी कार्यवाही में 27 लोगों के खिलाफ केस दर्ज किए गए और 13 आरोपियों को गिरफ्तार किया गया, जिनमें 8 पुरुष और 5 महिलाएँ शामिल हैं।

धार पुलिस द्वारा फर्जी कागजात बनाकर भूमि हड़पने वालों पर बड़ी कार्रवाई।

गिरफ्तार 13 आरोपियों में 5 महिलाएँ भी शामिल।

धार जिले के ग्राम मगजपुरा में धार महाराज द्वारा अस्पताल और अन्य जन-कल्याणकारी कार्यों के लिये दी गई भूमि के फर्जी कागजात बनाकर हेराफेरी करने पर 13 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। धार पुलिस अधीक्षक श्री आदित्य प्रताप सिंह और अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक श्री देवेन्द्र पाटीदार के नेतृत्व में उप पुलिस अधीक्षक (महिला अपराध) सुश्री यशस्वी शिंदे द्वारा प्रस्तुत जाँच आवेदन के आधार पर नगर पुलिस अधीक्षक श्री देवेन्द्र धुर्वे और 5 टीमों द्वारा यह बड़ी कार्रवाई की गई है।

आरोपियों ने मगजपुरा गाँव के भूमि सर्वे नम्बर-29 की कीमती भूमि का स्वामी न होते हुए भी अन्य लोगों को शामिल कर विवादित सम्पत्ति का अंतरण किया। तथ्यों को छिपाकर भ्रामक तथ्यों द्वारा कपट पूर्वक फर्जी दस्तावेज और फर्जी पक्षकारों द्वारा विभिन्न वाद पेश किये। योजनाबद्ध तरीके से षड़यंत्र कर क्रेता, विक्रेता, गवाह षड़यंत्रकारी और मास्टर माइंड अंतरण में शामिल हुए एवं अपने परिजनों के नाम सम्पत्ति अंतरित करवाई। सम्पत्ति के विक्रय विलेख के लिये स्टाम्प खरीदे और विवादित सम्पत्ति से संबंधित सभी अंतरण प्रारूपों की रचना की।

धार पुलिस ने इस फर्जी भूमि अंतरण में 27 लोगों को आरोपी बनाया है, जिनमें 17 पुरुष, 9 महिलाएँ और एक संस्था शामिल है।

Follow Us

%d bloggers like this: