बहला फुसलाकर ले जाकर गलत काम करने वाले को भेजा कारावास

बहला फुसला कर ले जाकर गलत काम करने वाले आरोपी की जमानत खारिज।

सागर। बढ़ते हुए महिला अपराध को देखते हुए  एवं महिला संरक्षण  अधिनियम के तहत श्रीमान हेमन्त कुमार अग्रवाल प्रथम अपर सत्र न्यायाधीश, बीना जिला सागर के न्यायालय ने आरोपी घनश्याम पिता सेमचन्द्र आदिवासी उम्र 27 वर्ष निवासी देहरी तहसील बीना जिला सागर का जमानत का आवेदन निरस्त करने का आदेश पारित किया।

वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से जमानत आवेदन पर राज्य शासन की ओर से विशेष लोक अभियोजक/वरिष्ठ सहा0 जिला अभियोजन अधिकारी श्याम सुन्दर गुप्ता, बीना जिला सागर ने शासन का पक्ष रखा।

घटना का संक्षिप्त विवरण—

फरियादिया ने थाना आगासौद में रिपोर्ट दर्ज कराई कि फरियादिया का पति करीब 11 साल पहले फौत हो गये। उसकी बेटी (अभियोक्त्री) जो कि नाबालिग है, दिनांक 15.08.2020 के शांम करीब 04 बजे उसे बिना बताये कही चली गयीं। शाम तक घर वापस नही आयी तो फरियादिया ने सभी जगह गांव में जाकर पता किया और रिस्तेदारी में पता किया जो नही मिली। कोई अज्ञात व्यक्ति उसे बहला फुसला के भगा ले गया। उक्त घटना का प्रकरण थाना आगासौद पुलिस ने पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया। पुलिस कार्यवाही के दौरान लडकी (अभियोक्त्री) को बरामद किया और पूछताछ की तो उसने बताया कि आरोपी घनश्याम आदिवासी ने उसके साथ गलत काम किया। आरोपी घनश्याम आदिवासी को गिरिफतार कर न्यायालय के समक्ष प्रस्तुत किया गया। आरोपी द्वारा जमानत आवेदन न्यायालय में प्रस्तुत किया। जहां अभियोजन ने जमानत आवेदन का विरोध किया गया।

माननीय न्यायालय द्वारा उभय पक्ष को सुना गया। न्यायालय द्वारा प्रकरण के तथ्य परिस्थितियों एवं अपराध की गंभीरता को देखते हुए व अभियोजन के तर्कों से सहमत होकर आरोपी घनश्याम आदिवासी का प्रस्तुत जमानत हेतु धारा 439 दप्रसं का आवेदन निरस्त कर दिया गया।

Follow Us

सम्पादक :- मध्यभारत live न्यूज़

%d bloggers like this: