N.R.L.M योजना को पलीता लगाने में जुटे भ्रष्ट अधिकारी (कार्यवाही की मांग)

सरदारपुर। ग्रामीण विकास मंत्रालय का उददेश्य ग्रामीण गरीब परिवारों को देश की मुख्यधारा से जोड़ना और विभिन्न कार्यक्रमों के जरिये उनकी गरीबी दूर करना है। इसी बात को ध्यान में रखते हुए मंत्रालय ने जून, 2011 में आजीविका-राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन (एनआरएलएम) की शुरूआत की थी। आजीविका-एनआरएलएम का मुख्य उददेश्य गरीब ग्रामीणों को सक्षम और प्रभावशाली संस्थागत मंच प्रदान कर उनकी आजीविका में निरंतर वद्धि करना, वित्तीय सेवाओं तक उनकी बेहतर और सरल तरीके से पहुंच बनाना और उनकी पारिवारिक आय को बढ़ाना है। इसके लिए मंत्रालय को विश्व बैंक से आर्थिक सहायता भी मिलती है।

आजीविका-एनआरएलएम ने स्व-सहायता समूहों तथा संघीय संस्थानों के माध्यम से देश के 600 जिलों, 6000 प्रखंडों, 2.5 लाख ग्राम पंचायतों और छह लाख गांवों के 7 करोड़ ग्रामीण गरीब परिवारों (बीपीएल) को दायरे में लाने का और 8 से 10 साल की अवधि में उन्हें आजीविका के लिए आवश्यक साधन जुटाने में सहयोग देने का संकल्प किया है, आजीविका-एनआरएलएम इस बात में विश्वास रखता है कि गरीबों की सहज क्षमताओं का सदुपयोग हो और देश की बढ़ती अर्थव्यवस्था में उनका योगदान हो, जिसके लिए उनकी सूचना, ज्ञान, कौशल, संसाधन, वित्त तथा सामूहिकीकरण से जुडकर क्षमताएं विकसित की जाएं।

परंतु सरदारपुर तहसील के अधिकारी इस पूरी योजना को पलीता लगाने में लगे हुए हैं–

प्रदेश राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन अंतर्गत सरदारपुर अधिकारि कर रहे हैं, भ्रष्टाचार जिसका शिकार हो रहे हैं समूह की महिलाएं
N.R.L.M मध्य प्रदेश राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग संकुल सरदारपुर अंतर्गत 5 संकुल है, इन संकुलो में से तीन संकुलो की महिलाओ ने लगाए N.R.L.M अधिकारी दिनेश डोडिया और सुनील परमार पर ब्लैंक चेक साइन करवाने के गंभीर आरोप। 

     वहीं महिला समूह की अध्यक्षा कला, रेणुका, रेखा दीदी ने मीडिया को दिए ब्लैंक चेक के फोटो, महिलाओं ने बताया कि हमारा खाता नर्मदा झाबुआ ग्रामीण बैंक ब्रांच धुलेट तहसील सरदारपुर में है जिसका अकाउंट नंबर 602920110000002 है, व जिसका चेक नंबर 002477”45465319 !- है। इन चेक पर अधिकारी दबाव डालकर हमसे हस्ताक्षर करवाते हैं।

     महिला समूह के अध्यक्षाओ का कहना है कि हमारे समूह की चेक बुक और सील दिनेश डोडिया अपने पास ही रखते हैं, और साइन करवाने के लिए हमारे पास चेक लेकर सुनील परमार को भेजते हैं। जिसके चलते हमने अपने आप पर हो रहे अत्याचारों का खुलासा करने के लिए मीडिया का सहारा लिया क्योंकि अधिकारियों द्वारा बार-बार हमें धमकी दी जाती है अगर आपने ब्लैंक चेक पर हस्ताक्षर नहीं किए तो आपको समूह से बाहर कर देंगे। 

      लाल घेरे में ब्लैंक चेक पर अध्यक्षा की सिग्नेचर। 

     ग्राम धूलेट की सांवरिया संकुल स्तरीय संगठन अध्यक्षा कला दीदी ने कहां की N.R.L.M अधिकारी दिनेश डोडिया के द्वारा मेरे घर पर अगरबत्ती बनाने की मशीन ला कर दी गई थी जिसमें अधिकारियों ने हमें कोई ट्रेनिंग नहीं करवाई और ना ही मेरे द्वारा यहां मशीन क्रय की गई थी। बावजूद उसके मुझे मजबूरन उस मशीन का लोन भरना पड़ रहा है। इसी प्रकार संकुल समूह संगठनों में सरदारपुर तहसील अंतर्गत 15 अगरबत्ती बनाने की मशीन अधिकारियों द्वारा लाई गई और दी गई। 

वहीं इन अधिकारियों से जब हमारे संवाददाताओं ने इन सब बातों की जानकारी ली तो उनका कहना है कि ना तो हमारे द्वारा किसी प्रकार के ब्लैंक चेक साइन करवाए जाते हैं और ना ही हमारे द्वारा इन महिलाओं को अगरबत्ती बनाने की मशीन घर ले जा कर दी गई हैं। 

इन सारी बातों से कहीं ना कहीं एन आर एल एम अधिकारी दिनेश डोडिया अपना पल्ला झाड़ते नजर आ रहे हैं। 

 

Follow Us

सम्पादक :- मध्यभारत live न्यूज़

%d bloggers like this: