मध्यभारत Live

सच के साथ

Number one in cleanliness, the filth of intoxicants spreading in the city

Number one in cleanliness, the filth of intoxicants spreading in the city

स्वच्छता में नंबर वन शहर में फैल रही नशे की गंदगी

स्वच्छता में नंबर वन, लेकिन पब माफियाओं, ड्रग कार्टल ने फैलाई शहर में नशे की गंदगी।

युवा पीढ़ी समा रही नशे के आगोश में।

अमित त्रिवेदी पत्रकार इंदौर—

इंदौर। शहर में चाहे सड़कों पर फैल रहे कचरे को तो घर घर जाकर नगर निगम की टीम द्वारा  समेट लिया गया। लेकिन पिछले करीब 5 सालों से शहर में सक्रिय पब माफियाओं ने पूरे शहर के अलग-अलग इलाकों में नशे की गन्दगी फैला रखी है।

पश्चिमी सभ्यता की नकल करते इंदौर के युवक और खासतौर से युवतियां इन पब माफियाओं के झांसे में पूरी तरह उलझ चुके है। जिनका सीधा उदाहरण नशे में धुत सड़कों पर रोजाना ही देखा जा सकता है। पुलिस एवं आबकारी विभाग को मुंह चिढ़ाते पब माफियाओं की मनमानी लगातार जारी है। हालाकि इंदौर कलेक्टर मनीष सिंह को शहर और युवाओं की चिंता है। लेकिन अन्य विभाग उनकी सोच पर बट्टा लगाने में काफी है। इधर पब माफिया बेखौफ निर्धारित समय के बावजूद भी शराब परोसते रहते है। मगर उन्हें किसी भी विभाग की छटांग भर भी परवाह नहीं है। जितनी मर्जी और जो करना हो पब माफिया कर गुजर रहे है।

पब माफिया फैला रहे शहर में गन्दगी

इंदौर जैसे सभ्यताओ और परंपराओ वाले शहर में इन पब माफियाओं ने पूरी तरह गंदगी फैला रखी है। शहर के युवा नशे की और बढ़ते जा रहे है। इंदौर जैसे शहर ने पहले शायद ही पाउडर, ब्राउन शुगर, एमडी जैसी ड्रग के किस्से सुने होंगे लेकिन अब कहीं न कहीं इन्ही पब माफियाओं की सहायता और नशे के व्यापार को मिलती सहजता के बलबूते पर इंदौर में नशे का कारोबार लगातार फलफूल रहा है।

पुलिस विभाग करता है छोटी मोटी कार्यवाही

पुलिस विभाग रोजाना कभी ब्राउन शुगर, कभी एमडी तो कभी गांजे की धरपकड़ कर रहा है। लेकिन यकीन मानिए अब इंदौर शहर भी ड्रग कार्टल की निगाह में चढ़ गया है। जिसका खामियाजा यह होगा कि यह ड्रग माफिया और पब संचालक शहर को बर्बाद कर के ही मानेंगे। धीरे धीरे शहर में नशे के कारोबार ने जिस तरह गति पकड़ी है। उसकी सरकार और विपक्ष दोनो ही जिम्मेदार है। क्योंकि शहर में पहले जितनी शराब दुकान थी। अब उसकी तीन गुना। यानी सीधा सा सबूत की इंदौर में अब नशेड़ियों की तादाद लगातार बढ़ती जा रही है। और नशे का यह काला धंधा खूब फल फूल रहा है।

युवा पीढ़ी समा रही नशे के आगोश में

युवा जिस तरह से नशे के आगोश में समा रहे है। यकीन मानिए इसके नतीजे बिलकुल भी अच्छे नहीं होने वाले है। धीरे धीरे नशा शहर की नींव को तो कमजोर कर ही रहा है। साथ ही साथ युवा पीढ़ी पूरी तरह बर्बाद हो रही है। इसका खामियाजा आने वाले दिनों आसानी से देखा जा सकेगा। लिहाजा इंदौर जैसे सभ्य, सुंदर, और साफ शहर में अब पब माफियाओं, नशे के कारोबारियों का सफाया होना बहुत जरूरी होता जा रहा है। नही तो देर से जागे तो बचाने को कुछ नही बचेगा।

Follow Us

सम्पादक :- मध्यभारत live न्यूज़

Spread the love