madhyabharatlive

"with the truth"

Private school operators flouting the orders of the Collector

कलेक्टर के आदेश की धज्जियां उड़ाते निजी स्कूल संचालक

धार। जिला कलेक्टर एवं जिला दंडाधिकारी के आदेशों के साथ-साथ मध्यप्रदेश शासन द्वारा जारी आदेश की धज्जियां उड़ाते निजी स्कूल संचालक। जिला मुख्यालय से कुछ ही दूरी पर कई निजी स्कूल संचालित हो रहे हैं। आज हमारे संवाददाता ने आसपास क्षेत्र में जानकारी जुटाई तो पता चला कि जिला मुख्यालय से करीब 10 से 12 किलोमीटर की दूरी पर आसपास के ग्रामीणों में संचालित होने वाले निजी स्कूल संचालक जिला कलेक्टर के आदेशों के बावजूद भी अपने स्कूलों को संचालित कर रहे हैं। सोमवार के दिन कई स्कूल संचालकों ने अपनी मनमानी करते हुए नौनिहाल नन्हे बच्चों के भविष्य की चिंता ना करते हुए अपने स्कूलों को संचालित किया।
आपको बतादे की जिला दंडाधिकारी डॉ. पंकज जैन  ने मध्यप्रदेश शासन, गृह विभाग, मंत्रालय  भोपाल  द्वारा जारी दिशा-निर्देशों के परिपालन में दण्ड प्रक्रिया संहिता 1973 की धारा-144 में प्रदत्त शक्तियों का प्रयोग करते हुए धार जिले की राजस्व सीमाओं के भीतर प्रतिबंधात्मक आदेश जारी किया है।
उक्त जारी आदेश के तहत कक्षा 1 से कक्षा 12 तक समस्त स्कूल एवं हॉस्टल 31 जनवरी 2022 तक बंद रहेंगे। जनवरी, 2022 में आयोजित होने वाली प्री-बोर्ड परीक्षाओं के संबंध में स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा पृथक से आदेश जारी किए जाएंगे।
इसी प्रकार सभी प्रकार के मेले (धार्मिक / व्यावसायिक), जिनमें जनसमूह एकत्रित होता है प्रतिबंधित रहेंगे। समस्त जुलूस एवं रेली प्रतिबंधित रहेंगे। समस्त राजनैतिक / सांस्कृतिक / धार्मिक / सामाजिक / शैक्षणिक / मनोरंजन आदि के आयोजनों में व्यक्तियों से अधिक की उपस्थिति प्रतिबंधित रहेगी। बंद हॉल में हॉल की क्षमता के 50 प्रतिशत से कम की उपस्थिति के ही आयोजन/ कार्यक्रम आयोजित हो सकेंगे। खेलकूद संबंधी गतिविधियों के लिए स्टेडियम की क्षमता के 50 प्रतिशत से अधिक उपस्थिति के आयोजन प्रतिबंधित रहेंगे।
कोविड उपयुक्त व्यवहार का पालन करना अनिवार्य होगा। कोविड उपयुक्त व्यवहार जैसे मास्क का उपयोग, सोशल डिस्टेंसिंग आदि का पालन सुनिश्चित कराया जायें। मारक नहीं लगाने वाले व्यक्तियों पर नियमानुसार जुर्माना वसूली की कार्यवाही की जाए।
Follow Us

%d bloggers like this: