पशु से अमानवीय कृत्य करने वाले आरोपी की जमानत खारिज

सागर। न्यायालय- श्रीमती वंदना त्रिपाठी न्यायिक मजिस्ट्रेट प्रथम श्रेणी रहली जिला सागर  के न्यायालय ने आरोपी लक्ष्मण पिता रज्जू गौड़ का जमानत का आवेदन निरस्त कर दिया। वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से जमानत आवेदन पर राज्य शासन की ओर से सहा0 जिला अभियोजन अधिकारी लोकेश दुबे ने शासन का पक्ष रखा।

घटना का संक्षिप्त विवरण इस प्रकार है कि-

दिनांक 19.08.2020 को  फरियादी  द्वारा थाना रहली में इस आशय की रिपोर्ट दर्ज कराई गई की उक्त दिनांक को सुबह  11:30 बजे के करीब वह अपने खेत से गांव तरफ आ रहा था तभी रास्ते में  गांव का ही लक्ष्मण पिता रज्जू सिंह एक भूरे रंग की पड़िया (भैंस का बच्चा) से गलत काम कर रहा था।

फरियादी  उस जानवर को पहचान गया कि वह गांव के ही एक व्यक्ति की है। फिर वह अपने भाई को वहीं बैठा गया और गांव के अन्य लोगों को बुला लाया, जिन्होंने लक्ष्मण सिंह को  पड़िया के साथ बुरा काम करते हुए देखा। सभी लोग लक्ष्मण के पास पहुंचे तो आरोपी वहां से भाग गया।

उक्त रिपोर्ट के आधार पर अभियुक्त लक्ष्मण के विरुद्ध थाना रहली में अपराध अंतर्गत धारा  377 भादवि एवं पशुओं के प्रति क्रूरता अधिनियम 1960 की धारा 11(1)(घ) के अंतर्गत प्रकरण पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया किया गया।

आरोपी के अधिवक्ता द्वारा जमानत आवेदन न्यायालय में पेश किया। जहां अभियोजन ने जमानत आवेदन का विरोध करते हुए महत्वपूर्ण तर्क प्रस्तुत किये। न्यायालय द्वारा उभय पक्ष को सुना गया। न्यायालय द्वारा प्रकरण के तथ्य परिस्थितियों एवं अपराध की गंभीरता को देखते हुए व अभियोजन के तर्कों से सहमत होकर आरोपी लक्ष्मण गौड़ का प्रस्तुत  जमानत हेतु धारा 437 दप्रसं का आवेदन निरस्त कर दिया गया।

Follow Us

सम्पादक :- मध्यभारत live न्यूज़

%d bloggers like this: