मध्यभारत Live

सच के साथ

The weight of the bag will not exceed 4 and a half kg till the tenth

The weight of the bag will not exceed 4 and a half kg till the tenth

दसवीं तक साढ़े 4 किलो से ज्यादा नहीं होगा बस्ते का वज़न

मध्यप्रदेश में दसवीं तक साढ़े 4 किलो से ज्यादा नहीं होगा बस्ते का वज़न

भोपाल। मध्यप्रदेश में स्कूली बच्चों के लिए यह राहत भरी खबर आ रही है। राज्य सरकार ने  स्कूली बैग पॉलिसी 2020 जारी की हैं। इसके मुताबिक दसवीं की कक्षा तक के बच्चों के बैग का भार साढ़े चार किलो से ज्यादा किसी भी कीमत पर नहीं होना चाहिए। राज्य सरकार की नई स्कूल बैग पॉलिसी के अनुसार, पांचवीं तक के बच्चों के बस्ते का वजन एक किलो 600 ग्राम से ढाई किलोग्राम तक होना चाहिए। बच्चों के बस्तों में राज्य सरकार और एनसीईआरटी द्वारा तय की गई पुस्तकों को ही रखा जाएगा, वहीं दूसरी कक्षा तक के विद्यार्थियों को अब होमवर्क नहीं दिया जाएगा।

दसवीं तक साढ़े 4 किलो से ज्यादा नहीं होगा बस्ते का वज़न

कक्षाओं के हिसाब से तय हुआ होमवर्क 

 राज्य सरकार की स्कूल बैग पॉलिसी में तय किया गया है कि कक्षा तीसरी से पांचवी तक सप्ताह में दो घंटे, छठी से आठवीं तक प्रतिदिन एक घंटे और 9वीं से 12वीं तक के बच्चों को हर दिन अधिकतम दो घंटे का होमवर्क ही दिया जाएगा। इसके साथ ही सभी स्कूलों को अपने नोटिस बोर्ड और कक्षा कक्ष में बच्चों के बस्ते के वज़न का चार्ट भी लगाना होगा. इसके अलावा बगैर पुस्तकों के बच्चों के लिए कंप्यूटर, नैतिक शिक्षा और सामान्य ज्ञान की कक्षाएं लगानी होंगी. इतना ही नहीं सप्ताह में एक दिन बच्चे बगैर बैग के स्कूल आएंगे।

11वीं और 12वीं के लिए भी तय होगा बस्तो का वजन 

 राज्य सरकार द्वारा  स्कूल बैग पॉलिसी के जरिए जहां पहली से लेकर 10वीं तक के स्कूल बैग का वजन तय कर दिया गया है, वहीं 11वीं और 12वीं के मामले में शाला प्रबंधन समितियां जरूरत के आधार पर बस्ते का वज़न तय करेंगी। इस नई नीति के अनुसार सरकारी, गैर सरकारी और अनुदान प्राप्त स्कूलों में बच्चों के बस्ते का वज़न तय होगा और उनका होमवर्क भी।

Follow Us

सम्पादक :- मध्यभारत live न्यूज़

Spread the love