जहरीली शराब पीने से दो की मौत, छह गंभीर रूप से घायल

जहरीली शराब पी कर मृत्यु होने के मामले में शराब बनाने व् बेचने वाले आरोपी पिता व् बेटे की जमानत निरस्त।

बड़वानी। मामला अवैध शराब निर्माण कर बिक्री का है, जहां एक और मध्यप्रदेश सरकार ने अवैध शराब माफियाओ एवं अवैध परिवहन पर सख्ती से रोक लगाने के आदेश जारी किए हैं, वही कई जगहों पर चंद भ्रष्टाचारी अधिकारियों की मिलीभगत से अवैध शराब का कारोबार फल-फूल रहा है।  जिससे  समाज के साथ-साथ  आम आदमी की  की जान को भी खतरा है। ऐसा ही एक मामला बड़वानी का संज्ञान में आया है। जहां जहरीली शराब पीने से दो लोगों की अचानक तबीयत बिगड़ती है वह फिर उनकी मृत्युु हो जाती है इतना ही नहीं अन्य पांच छे लोगों की तबीयत बहुत ज्यादा बिगड़ जाती हैं।

न्यायालय माननीय न्यायिक मजिस्ट्रेट प्रथम श्रेणी महोदय सेंधवा श्री जफर खान द्वारा अपने आदेश मे कच्ची महुआ की शराब बनाकर बेचने के आरोप मे आरोपीगण जगदीश पिता चैपा उम 50 साल एवं सलीम पिता जगदीश उम्र 20 साल नि. ग्राम दिवानिया जिला बड़वानी को धारा 304 भादवि एवं म. प्र.आबकारी अधिनियम की धारा 49क मे जमानत निरस्त कर भेजा जेल। अभियोजन की ओर से पैरवी श्री संजयपाल मोरे एवं राजमलसिंह अनारे सहायक जिला अभियोजन अधिकारी सेंधवा द्वारा की गई।

अभियोजन मीडिया प्रभारी सुश्री कीर्ति चौहान ने बताया कि घटना दिनांक 04.09.2020 को आरोपीगण द्वारा जहरीली कच्ची महुआ की अवैध शराब बनाकर बेची जा रही थी। घटना दिनांक को मृतक मकराम व मृतक कोटवाल ने आरोपीगण द्वारा बनायी गयी शराब पी थी। तथा अन्य विनोद, पुनियाबाई, झझाडिया, महारिया, भावसिंह एवं मुकेश ने भी वही शराब पी थी।

जिसमे से मृतक मकराम व मृतक कोटवाल की कुछ समय बाद तबीयत खराब होने लगी और उनकी मृत्यू हो गयी थी। और अन्य व्यक्ति जिन्होने वह जहरीली शराब पी थी उनकी भी तबीयत खराब हुई थी।

पुलिस ने आरोपीगण जगदीश व सलीम के खिलाफ धारा 304 भादवि एवं आवकारी अधिनियम की धारा 49क मे अपराध पंजीबद्ध कर आरोपीगण को गिरफतार माननीय न्यायालय मे पेश किया गया।

आरोपीगण ने अपने अधिवक्ता के माध्यम से माननीय न्यायालय के समक्ष जमानत आवेदन पेश किया परंतु अपराध गंभीर प्रकृति का होने से अभियोजन द्वारा जमानत आवेदन पर आपत्ति की गई। माननीय न्यायालय ने अभियोजन की दलील पर आरोपीगण की जमानत आवेदन निरस्त कर भेजा जेल।

Follow Us

सम्पादक :- मध्यभारत live न्यूज़

%d bloggers like this: