मध्यभारत Live

सच के साथ

भ्रूण हत्या के सम्बंध में कथित डॉक्टर का वीडियो वायरल

कौन है डॉक्टर गुप्ता जो चला रहा है, अवैध भ्रूण परीक्षण की जांच के नाम पर दुकानदारी?????

इंदौर में कन्या भ्रूण हत्या संबंधित कथित डॉक्टर का वीडियो वायरल। बिचोली मर्दाना और गांधी नगर क्षेत्र में भी चलता है भ्रूण की जांच का काला कारनामा।

कोई नही करेगा यह काम, स्टांप पर लिखकर ले लो , तुम्हे दो लड़कियां है इसलिए कर रहा हूं : डॉक्टर संतोष।

इंदौर। (कपिल तिवारी) देश मे बेटियों को पढ़ाने और बढ़ाने के लिये यूं तो तमाम राज्य सरकारें व केंद्र सरकार लाख दावे करती है लेकिन मध्यप्रदेश के इंदौर में बेटियों के मामले में हालात कुछ अलग है। लाख नियम कायदे बनाए जाएं लेकिन अगर ऐसे नियम एवं कायदों पर वास्तविक रूप से तारे न किया जाए तो ऐसे नियम एवं कायदे ताक पर रखकर हमें तोड़ा भी जाता है।

दरअसल, बेटी बचाओ और बेटी पढ़ाओ का संदेश देने वाले मध्यप्रदेश के इंदौर में चिकित्सा जगत में एक ऐसा कारनामा उजागर हुआ है जिसके खुलासे के बाद अब कई सवाल उठ रहे है।
लगातार स्वास्थ्य विभाग एवं विभिन्न संगठन बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ जैसे नारों को बुलंद करते हैं लेकिन हकीकत तो यह है कि कई ऐसे लोग हैं जो ऐसे स्लोगन पर कालिख पोतने नजर आते हैं।

45 हजार में तय हुआ कोख में पल रही बेटी का मारने का सौदा

बता दे कि इंदौर के द्वारकापुरी थाना क्षेत्र के प्रजापत नगर में संचालित एक क्लिनिक पर कन्या भ्रूण हत्या पर बड़ा खुलासा हुआ है। जहां 45000 रुपये लेकर कोख में पल रही बेटी को मारने का गंदा खेल कैद हुआ खुफिया कैमरे में कैद हुआ और डॉक्टर बेफिक्र होकर कह रहा है कि वो ग्यारंटी से बेटी पैदा नही होने देगा। सूत्र बताते है कि अब तक सैंकड़ो कन्या भ्रूण हत्या करवा चुका है अब डॉक्टर संतोष विश्वकर्मा एक स्टिंग ऑपरेशन में फंस गया है।

भ्रूण हत्या के लिए डॉक्टर ने महिला और पुरुष से लिए 15 हजार एडवांस।

कन्या भ्रूण हत्या के लिए डाक्टर के क्लीनिक पहुंचे महिला और पुरुष से डाक्टर एडवांस के 15 हजार रुपये भी लेता है। खुद को डाक्टर बताने वाला व्यक्ति दावा करता है यह काम पूरे इंदौर में उसके अलावा और कोई नहीं कर सकता। वह सिर्फ इसलिए यह काम कर रहा है क्योंकि पुरुष के यहां पहले से दो लड़कियां हैं। वीडियो में कथित डाक्टर एक समाज विशेष का नाम लेकर कह रहा है कि उस समाज में लड़की की शादी में 50-60 लाख रुपये की कार तक देना पड़ती है। उसने इस काम के पहले 70 हजार रुपये बताए थे। उक्त मामले में सौदा 45 हजार रुपये में तय हो गया। इसमें से कथित डाक्टर ने 15 हजार रुपये एडवांस के बतौर ले भी लिए। रकम लेने के बाद कथित डाक्टर ने महिला को दूसरे दिन काम के लिए बुलाता है।

जांच में हो सकता है एक बड़े रैकट का पर्दाफाश।

स्टिंग ऑपरेशन के दौरान डॉक्टर संतोष खुद को सबसे बड़ा बताते हुए कहता नजर आ रहा है कि उसने कई दफा कई लोगो के घर बेटी नही बल्कि बेटा पैदा करवाया है। इधर, वीडियो सामने आने के बाद अब प्रशासन की सख्त कार्रवाई की दरकार आम लोगो को है ताजा मामले में किसी डॉक्टर गुप्ता का नाम भी सामने आ रहा है। वही इस रैकेट में कई और लोगो के शामिल होने की आशंका है।

उक्त मामले में सूत्रों द्वारा पता चला है कि यह रैकेट को संरक्षण देने वाला एक प्रशासनिक अधिकारी है जो उक्त वीडियो के वायरल एवं खबरों के प्रसारित होने के बावजूद नियमों को दरकिनार करते हुए उक्त डॉक्टर पर कार्यवाही नहीं होने दे रहे हैं।

इस बात से ही अंदाजा लगाया जा सकता है कि भ्रूण हत्या को लेकर लाखों करोड़ों रुपए के विज्ञापन शासन प्रशासन द्वारा चलाए जाते हैं लेकिन उसके बावजूद भी ऐसे अवैध रूप से भ्रूण की जांच लगातार की जा रही है

अपराध से जुड़े क़ानूनी प्रावधान

भारतीय दंड संहिता, 1860 के तहत प्रावधान : भारतीय दंड संहिता की धारा 312 कहती है: ‘जो कोई भी जानबूझकर किसी महिला का गर्भपात करता है जब तक कि कोई इसे सदिच्छा से नहीं करता है और गर्भावस्था का जारी रहना महिला के जीवन के लिए खतरनाक न हो, उसे सात साल की कैद की सजा दी जाएगी’। इसके अतिरिक्त महिला की सहमति के बिना गर्भपात (धारा 313) और गर्भपात की कोशिश के कारण महिला की मृत्यु (धारा 314) इसे एक दंडनीय अपराध बनाता है। धारा 315 के अनुसार मां के जीवन की रक्षा के प्रयास को छोड़कर अगर कोई बच्चे के जन्म से पहले ऐसा काम करता है जिससे जीवित बच्चे के जन्म को रोका जा सके या पैदा होने का बाद उसकी मृत्यु हो जाए, उसे दस साल की कैद होगी धारा 312 से 318 गर्भपात के अपराध पर सरलता से विचार करती है जिसमें गर्भपात करना, बच्चे के जन्म को रोकना, अजन्मे बच्चे की हत्या करना (धारा 316), नवजात शिशु को त्याग देना (धारा 317), बच्चे के मृत शरीर को छुपाना या इसे चुपचाप नष्ट करना (धारा 318)। हालाँकि भ्रूण हत्या या शिशु हत्या शब्दों का विशेष तौर पर इस्तेमाल नहीं किया गया है, फिर भी ये धाराएं दोनों अपराधों को समाहित करती हैं।

Follow Us

सम्पादक :- मध्यभारत live न्यूज़

Spread the love