madhyabharatlive

Sach Ke Sath

आखिर किसके संरक्षण में चल रहा है सट्टा बाजार, पुलिस या नेता का सपोर्ट

आखिर क्यों नहीं हो रही गुप्ता के ठिकानों पर पुलिस की कार्यवाही ?? या फिर यूं कहे कि पुलिस अनदेखा कर रही है!

कुक्षी/धार। जिला पुलिस अधीक्षक के निर्देशन मे पुलिसिया कार्रवाई से अवैध धंधेबाजों के लगभग सभी ठिकाने बंद हो गए हैं लेकीन फिर भी जिले के कुछ क्षेत्रों मे आज भी अवैध धंधे जम कर संचालित हो रहे हैं। यह लोग अपना काला व्यापार किसके संरक्षण में चल रहे हैं पुलिस की मिली भगत कहे या यूं कहें कि नेताओं का संरक्षण प्राप्त है इन अवैध धंधे बाजो पर।

कल्याण बम्बई का मिलन—

प्रतिदिन सुबह होते ही कुक्षी मे सटोरिए अपनी दूकानदारी चालू कर लेते हैं और सुबह से रात तक इन सटोरियो का अवैध व्यापार चलता रहता है। सुबह से लेकर शाम तक कल्याण बम्बई का मिलन होता रहता है।

ठिकाने बदलने मे माहिर है ये सटोरिए—

यह सटोरिए अपने अवैध धंधे के व्यापार को संचालित करने के लिए एक जगह से दूसरी जगह अपने ठिकाने बदलते रहते है। सटोरियो ने अपने काले धंधे को चलाने के लिए कभी कचौरी चौक कभी बस स्टैण्ड और अन्य जगह भी ठिकाने बना रखे है।

After all, under whose protection is the betting market running, the police or the support of the leader?

पुलिस कार्यवाही का नही है खौफ !

जिले मे लगातार पुलिस कप्तान के निर्देशन मे अवैध धंधेबाजो पर कार्यवाही हो रही है वहीं कुक्षी क्षेत्र इस कार्यवाही से अछूता क्यो रह रहा है। इसी कारण यहां के अवैध व्यापारी अपना काले व्यापार का खेल बेखौफ होकर खेल रहे है।

आखिर कार किसका मिल रहा है संरक्षण—

जिस प्रकार से कुक्षी क्षेत्र मे बेखौफ होकर यह सटोरिए अपनी दुकानदारी चला कर पुलिस को मुंह चिढ़ा रहे है इस हिसाब से तो ऐसा ही लग रहा है की जरूर इन सटोरियो को किसी ना किसी का वरदहस्त प्राप्त है।

खबर – मनीष जैन।

Spread the love