16/06/2024

madhyabharatlive

Sach Ke Sath

गिरफ्तारी के बाद 8 जुलाई को पेश होंगे ‘बम’

इंदौर। (प्रवीण खारीवाल) कांग्रेस का दामन छोड़ बीजेपी में शामिल होने वाले अक्षय कांति बम की मुश्किलें थमने का नाम नहीं ले रही है। दरअसल, हाल ही में अक्षय बम पर धारा 307 हत्या के प्रयास बढ़ने के बाद गिरफ्तारी वारंट जारी किया जा चुका है। इसके साथ ही अब अक्षय पर एक और केस लग गया है, जिसके अनुसार बम पर धारा 420 के साथ ही 406, 409 अमानत में खयानत जैसी धाराओं के तहत कोर्ट में केस दर्ज किया गया है, जिसने अक्षय की मुश्किलों को बढ़ा दिया है।

जानकारी के मुताबिक यह याचिका फरियादी यूनुस पटेल ने अधिवक्ता मुकेश देवल के जरिए दाखिल करवाई है। जिसको लेकर कोर्ट ने TI को 8 जुलाई तक जांच प्रतिवेदन रिपोर्ट पेश करने की बात कही है। वहीं इस मामले को लेकर अधिवक्ता देवल ने कोर्ट को जानकारी देते हए बताया कि जमीनी सौदे को लेकर आरोपी अक्षय बम ने करीब छः सौदे किए थे, जो पूरे भी नहीं हुए और दिए गए चैक भी बाउंस हो गए।

उक्त मामले को लेकर पुलिस को भी शिकायत की जा चुकी है, परंतु अभी तक कोई भी एक्शन नहीं लिया गया है। हम चाहते है जल्द से जल्द इस मामले में जांच की जाए और आरोपियों के खिलाफ दर्ज धाराओं को बढ़ाया जाए।

ये है विवाद की कहानी —

मिली जानकारी के मुताबिक इस मामले में विवाद यह है कि साल 2004 अप्रैल में अक्षय बम ने यूनुस और उनके अन्य साथियों के साथ जमीन का सौदा किया था, जिसकी राशि 16.77 लाख प्रति एकड़ बताई जा रही है। तय राशि के बाद भी इसकी राशि नहीं दी गई और सौदा टाल दिया गया। फरियादी का कहना है कि अब इन जमीन की कीमत 60 लाख प्रति एकड़ तक पहुंच गई है।

गिरफ्तारी के बाद 8 जुलाई को पेश होंगे ‘बम’ —

गौरतलब है कि इस मामले में 10 मई को बढ़ी धारा के तहत अक्षय और उनके पिता कांति बम को जिला कोर्ट में पेश होने के लिए कहा गया था, परन्तु अक्षय ने झूठ बोलकर कोर्ट में पेश होने से अपने आपको और पिता कांति बम को बचा लिया। उसके बाद दोनों पर गिरफ्तारी वारंट जारी किया गया कि पुलिस अक्षय और कांति बम दोनों को 8 जुलाई तक कोर्ट में पेश करे। वहीं दूसरी और पुलिस ने अक्षय बम के घर पर सुरक्षा दी हुई है। फिलहाल फरियादी को कोर्ट में सुनवाई का इन्तजार है, जो 8 जुलाई को होगी।

संपादक- श्री कमल गिरी गोस्वामी

Spread the love

Discover more from madhyabharatlive

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading