madhyabharatlive

Sach Ke Sath

Quack doctor's clinic sealed, other quacks absconding

Quack doctor's clinic sealed, other quacks absconding

झोलाछाप डॉक्टर का क्लीनिक सील, अन्य झोलाछाप फरार

गलत इंजेक्शन लगाने के मामले में संबंधित डॉक्टर के विरुद्ध नालछा थाने पर किया प्रकरण दर्ज। 

टीम को देख अन्य झोलाछाप डॉक्टर भी क्लीनिक बंद कर हुए फरार !

बंगरेड के 22 वर्षीय युवक की तबीयत बिगड़ने के बाद परिजनों ने की थी शिकायत।

धार। नालछा नगर में रविवार को झोलाछाप डॉक्टर ने 22 वर्षीय युवक को उपचार के दौरान गलत इंजेक्शन लगा दिया था। परिणाम स्वरुप युवक की तबीयत बिगड़ने लगी और वह छटपटाने लगा था।

स्वास्थ बिगड़ने के बाद परिजन मरीज को नालछा के स्वास्थ्य केंद्र ले गए जहां से उसे गंभीर स्थिति देखते हुए धार रेफर किया गया। परिजनों की शिकायत पर स्वास्थ्य विभाग हरकत में आया और सोमवार को नालछा ब्लॉक मेडिकल ऑफिसर द्वारा टीम गठित कर झोलाछाप डॉक्टर के विरुद्ध कार्रवाई की गई।

कार्यवाही को देखते हुए कई डॉक्टर क्लीनिक बंद कर अन्यत्र चले गए। ऐसे में टीम ने क्लीनिक को सील कर दिया। फर्जी चिकित्सक के विरुद्ध कार्रवाई की जा रही है। इधर स्वास्थ्य विभाग की टीम को देख नालछा मुख्यालय पर अन्य झोलाछाप डॉक्टर भी भाग खड़े हुए।

Quack doctor's clinic sealed, other quacks absconding

नालछा ब्लॉक मेडिकल ऑफिसर जोगेंद्र सिंह डावर ने बताया कि रविवार को नालछा के पास के बंगरेड के निवासी अमित पुत्र बंसी कटारे को बुखार आने के बाद वे यहां के मुख्य बाजार में स्थित निजी क्लीनिक पर पहुंचे थे। जहां पर झोलाछाप डॉक्टर सुरजीत राय ने अमित को दो इंजेक्शन लगाए थे इंजेक्शन लगाने के बाद अमित का स्वास्थ्य और खराब हो गया और तड़पने लगा था। इसके बाद परिजन युवक को नालछा स्वास्थ्य केंद्र लेकर आए थे। जहां से 108 एंबुलेंस के माध्यम से जिला चिकित्सालय भेज दिया था जहां मरीज को आधे घंटे आईसीयू में रखने के बाद इंदौर रेफर किया गया।

परिजनों ने की थी शिकायत —

ब्लॉक मेडिकल ऑफिसर श्री डावर ने बताया कि परिजनों ने इस मामले में वरिष्ठ अधिकारियों को भी शिकायत की थी। साथ ही समाचार पत्रों में भी यह मामला प्रकाशित हुआ था। मामले को गंभीरता से लेते हुए एक टीम का गठन किया गया। टीम द्वारा कार्यवाही की गई। 

मौके पर पहुंची टीम क्लीनिक बंद मिला —

शिकायत के बाद मौके पर टीम पहुंची तो डॉक्टर क्लीनिक बंद करके फरार हो गए थे। फोन पर संपर्क किया गया तो अन्यत्र गांव में डॉक्टर ने होने की बात कही। इस पर मौके पर बंद क्लिनिक को सील कर दिया गया। झोलाछाप डॉक्टर के विरुद्ध भी कार्रवाई की जा रही है।

टीम को देख अन्य झोलाछाप भी क्लीनिक बंद कर भाग खड़े हुए —

स्वास्थ्य विभाग की टीम द्वारा झोलाछाप डॉक्टर के क्लीनिक को सील करने की कार्रवाई की जा रही थी, इस बात की भनक लगते ही नालछा में अन्य झोला छाप डॉक्टर भी क्लीनिक बंद कर फरार हो गए। टीम के लोग अन्य क्लिनिको पर भी पहुंचे लेकिन क्लीनिक बंद कर डॉक्टर फरार हो गए थे।

एसडीएम के निर्देशन में बन रही है टीम —

ब्लॉक मेडिकल ऑफिसर श्री डावर ने बताया है कि लंबे समय से झोलाछाप डॉक्टरों को लेकर शिकायत मिल रही थी एसडीएम के निर्देशन में जल्द ही टीम बनाकर अवैध रूप से संचालित इन क्लीनिक पर कार्रवाई की जाएगी। श्री डावर ने बताया कि नालछा मुख्यालय पर करीब 15 झोलाछाप डॉक्टर क्लीनिक संचालित कर रहे हैं। इसके अलावा भी विकास खंड में भी अवैध रूप से क्लीनिक संचालक को लेकर जानकारी मिली है। उन पर भी जल्द कार्यवाही की जाएगी।

यह लोग शामिल थे टीम में —

स्वास्थ्य विभाग की टीम में नालछा थाना प्रभारी ईश्वर सिंह चौहान, एएसआई राजेंद्र गिरी गोस्वामी, सरपंच मोहन डावर, सचिव जगदीश ग्रेवाल, मेडिकल ऑफिसर डॉक्टर प्रियंका सिंह, स्वास्थ्य विभाग के गोपाल शर्मा, राजेंद्र शर्मा, राजेंद्र वास्केल, रविंद्र ठाकुर आदि शामिल थे।

थाने पर हुआ प्रकरण दर्ज —

इस मामले में थाना प्रभारी ईश्वर सिंह चौहान ने बताया कि परिजनों की शिकायत पर संबंधित डॉक्टर के विरुद्ध प्रकरण दर्ज किया गया है।

Spread the love