madhyabharatlive

Sach Ke Sath

Illegal recovery of sand continues even after the contract is over

Illegal recovery of sand continues even after the contract is over

अनुबंध समाप्त होने के बावजूद भी रेत की अवैध वसूली चालू

रेत की अवैध वसुली के विरोध मे विधायक ग्रेवाल के साथ रेत एसोसिएशन ने सौंपा ज्ञापन। 

सरदारपुर/धार। रामका माईनिंग प्राइवेट लिमिटेड कंपनी द्वारा बालु रेती का अनुबंध समाप्त होने के बावजूद एवं अन्य व्यक्तियो के द्वारा अवैध वसुली की जा रही है। पेसे नही देने पर रेत की गाडी बन्द करवाने की धमकी तक दी जा रही है।

जिसके विरोध मे सरदारपुर विधायक प्रताप ग्रेवाल के साथ रेत एसोसिएशन तहसील सरदारपुर द्वारा एसडीएम कार्यालय पर पहुचकर शनिवार को अनुविभागीय राजस्व अधिकारी राहुल चैहान एवं पुलिस विभाग के एसडीओपी आशुतोष पटेल को ज्ञापन सौंपा गया।

ज्ञापन मे बताया गया है कि रामका माईनिंग प्राइवेट लिमिटेड का रेती का सरदारपुर तहसील सहित धार जिले मे अनुबंध 30 जुन 2023 को समाप्त हो चुका है। उसके बावजूद सरदारपुर तहसील के रिंगनोद मे अवैध वसुली के उद्देश्य से बैरियर लगा दिया गया है। पूर्व मे भी रिंगनोद चोकी के पास बैरियर लगाकर अवैध वसुली की जाती थी। ड्राईवरो द्वारा पैसे नही दिए जाने पर पुलिस विभाग एवं खनिज विभाग को बुला लेने की धमकी दी जाकर गाडियाॅ बंद करवाने की धमकी दी जाती थी।

रामका माईनिंग प्राइवेट लिमिटेड द्वारा गुजरात प्रदेश की रायल्टी होने एवं मध्यप्रदेश की आई.एस.टी.पी. रहने के बावजूद प्रत्येक रेत वाहन से 5 हजार रूपये की राशि ली जाती है। हमेशा रेत व्यापारियो को परेशान किया जाता है।

वर्तमान मे खनिज विभाग धार द्वारा रामका माईनिंग प्राइवेट लिमिटेड का केवल भण्डारण की अनुमति दी गई है, किन्तु भण्डारण मे रेत उपलब्ध नही है। शासन के नियम विपरित रामका माईनिंग प्राइवेट लिमिटेड द्वारा कार्य किया जा रहा है। इसलिए धार जिले मे रामका माईनिंग प्राइवेट लिमिटेड कंपनी द्वारा लीज अनुबंध समाप्त होने के बावजूद बैरियर लगाकर अवैध वसुली करने एवं रेत भण्डारण के कार्य मे नियम विपरित कार्य करने पर रामका कंपनी के विरूध्द उचित कार्यवाही की मांग की है।

ज्ञापन देते समय समन्दरसिंह पटेल, हुकुमसिंह रेवर, सुमीत गादिया, कोमलसिंह पडियार, प्रतीक जमीदार, रितेश वैष्णव, कैलाश लछेटा, गोलु राठौड, घनश्याम गुर्जर, मुकेश पंवार, राजेश राठौड, अर्जुन पंवार, अल्पेश रोकडिया आदि मौजूद रहे।

संपादक- कमलगिरी गोस्वामी

Spread the love