madhyabharatlive

Sach Ke Sath

Legal Literacy Camp on Massive Tree Plantation and Environment Day

Legal Literacy Camp on Massive Tree Plantation and Environment Day

वृहद वृक्षारोपण एवं पर्यावरण दिवस पर विधिक साक्षरता शिविर

पंच-ज अभियान के तहत तहसील न्यायालय धरमपुरी में वृहद वृक्षारोपण एवं पर्यावरण दिवस पर विधिक साक्षरता शिविर आयोजित। 

धरमपुरी/धार। राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण मध्यप्रदेश उच्च न्यायालय, जबलपुर एवं माननीय श्री संजीव कुमार अग्रवाल अध्यक्ष जिला विधिक सेवा प्राधिकरण, धार एवं प्रधान जिला एवं सत्र न्यायाधीश धार के मार्गदर्शन में आज दिनांक 05-06-2024, बुधवार, पर्यावरण दिवस पर धरमपुरी न्यायालय में पंच-ज अभियान के अन्तर्गत वृहद वृक्षारोपण का विशेष अभियान किया, जिसके अन्तर्गत पर्यावरण को बनाये रखने के लिये न्यायालय के सभी कर्मचारीगण, न्यायिक अधिकारीगण और अधिवक्तागण ने पौधारोपण किया।

न्यायालय परिसर में आम, बैल, आंवला, इमली और जाम सहित अन्य फलदार पौधों का रोपण किया गया।

तहसील विधिक सेवा प्राधिकरण धरमपुरी के अध्यक्ष श्री अनिल चौहान ने आम का पौधा लगाकर सभी को यह निर्देश दिया कि जो पौधारोपण किया है, उसका उचित रख रखव, पानी आदि की व्यवस्था सुनिश्चित की जाय तथा सभी को यह कहा कि यह संकल्प लेवें कि लगाये गये पौधे को अपने बच्चों की तरह परवरिश करके बड़ा करेंगे।

सुश्री अपेक्षा यादव न्यायिक मजिस्ट्रेट प्रथम श्रेणी, धरमपुरी एवं अधिवक्ता संघ धरमपुरी के अध्यक्ष श्री रविन्द्र न्याईक और अन्य अधिवक्तागण श्री अशोक न्याईक, जितेन्द्र सेन, अमीन पठान, एम.एल. देवड़ा, एल.एम. शेख, मुबारिक खान, प्रकाश भगौरे, श्री गांवशिन्दे, आशीष पगारे द्वारा न्यायालय परिसर में पौधारोपण कर उन्हें संरक्षित करने का संकल्प लिया। न्यायालय के कर्मचारीगण ने भी पौधारोपण कर संकल्प लिया।

Legal Literacy Camp on Massive Tree Plantation and Environment Day
Legal Literacy Camp on Massive Tree Plantation and Environment Day

पर्यावरण दिवस पर न्यायालय परिसर में विधिक साक्षरता शिविर का भी आयोजन किया गया। शिविर में श्री अनिल चौहान जिला एवं सत्र न्यायाधीश, धरमपुरी एवं अध्यक्ष तहसील विधिक सेवा प्राधिकरण धरमपुरी ने बताया है कि आज पर्यावरण दिवस है, पर्यावरण दिवस का जीवन में बहुत महत्व है, यह हमें स्वच्छ हवा, पानी, भोजन, सामग्री और मनोरंजन के लिये स्थान प्रदान करता है, प्रकृति में समय बिताना हमारे मानसिक स्वास्थ्य के लिये अच्छा है और यदि हम गृह, इसकी जलवायु और परिस्थितिक तंत्र का ध्यान नहीं रखते हैं, तो हम अपने समाज के कामकाज को कमजोर कर देते हैं। इस कारण पर्यावरण को बनाये रखना हम सभी की जिम्मेदारी है।
जून में प्रकृति का तापमान 45 डिग्री से उपर चला गया, यह इस बात की ओर इशारा है कि यदि हम पर्यावरण के प्रति जागरूक नहीं रहेंगे, वृक्षारोपण अधिक मात्रा में नहीं करेंगे, तो इससे भी अधिक तापमान देखने को मिलेगा, जो मानव जीवन के लिये खतरा रहेगा।

पौधारोपण से प्राकृतिक क्षेत्र में हमें स्वच्छ हवा, ऑक्सीजन मिलेगा, छाव मिलेगी, फल मिलेगा और हमारा कामकाज का स्थान ठण्डा करने में मदद करेगा, इसलिये पर्यावरण की सुरक्षा के लिये प्रदूषण को रोकने के लिये प्रत्येक अधिवक्तागण, कर्मचारीगण, जब-जब समय मिले, अपने सुविधाजनक स्थान पर एक-एक पौधा रोपण करें और उसको संरक्षित करें।

संविधान के अनुच्छेद 51 क में कर्तव्य के बारे में बताया गया है, उसमें एक कर्तव्य पर्यावरण को संरक्षित करने का भी है, इसलिये सभी नागरिकों का यह कर्तव्य है कि पर्यावरण का बनाये रखने के लिये पौधारोपण करें और अपना समाज का भला करें।

तद्नुसार तहसील धरमपुरी में पंच-ज अभियोजन के अन्तर्गत वृहद वृक्षारोपण का अभियान विधिक सेवा प्राधिकरण जबलपुर के निर्देशानुसार प्रारम्भ किया और विधिक साक्षरता शिविर का भी आयोजन किया।

Spread the love