madhyabharatlive

Sach Ke Sath

मां लंगड़ी के दरबार में डांडिया रास के साथ भजनों की धूम

धार। धार नगर से मार्च 3 किलोमीटर की दूरी पर बस है मां लंगडी का दरबार। मां के दरबार में रंगारंग आयोजन प्रतिवर्ष के अनुसार इस वर्ष भी जारी है।

मां के दरबार में डांडिया की धूम के साथ भजन संध्या का आयोजन बड़े हर्षो उल्लास के साथ हुआ।

माता के दर्शन लिए पहुंचते हैं सेकड़ो भक्त

मां के दरबार में भक्तों का ताता दिन प्रतिदिन लगा ही रहता है। जो भक्त अपनी मुरादे लेकर आते हैं, वह कभी खाली हाथ नहीं जाते। धार में प्रसिद्ध माता मां लंगडी को सांचे दरबार के नाम से है भी जाना जाता है। मां लंगडी जैतपुर वाली के नाम से भी मां प्रसिद्ध है।

Song of hymns with Dandiya Raas in the court of Maa Langdi
Song of hymns with Dandiya Raas in the court of Maa Langdi

शारदीय नवरात्रि में मां लंगडी के दरबार में प्रतिदिन होता हैं डांडिया का आयोजन। साथ ही मां लंगडी के दरबार में भजन संध्या का भक्तों के द्वारा आयोजन किया गया। मां के जयकारे लगाकर भक्तों ने लिया आशीर्वाद।

आपको बता दें कि नवरात्रि में माता के दर्शन के लिए माता के भक्त बड़ी दूर-दूर से पैदल चलकर मां के दरबार में पहुंचते हैं, जो कोई भी मां लंगडी के दरबार अपनी मुरादे लेकर पहुंचता है उनकी मुरादे हमेशा मां पूरी करती है। मां लंगडी का आशीर्वाद कभी खाली नहीं जाता और कहा जाता है कि ग्रामवासी जैतपुर वाले के ऊपर मां लंगडी का आशीर्वाद सदा ही बना रहता है।

मां लंगडी के पुजारी विक्रम सोलंकी भक्त राज का कहना है की मां के दरबार में कई राज्यों से भी माता के दर्शन के लिए पहुंचते हैं भक्त।

भजन संध्या आयोजन सुभाष सोलंकी प्रतिवर्ष के अनुसार इस बार भी भजन संध्या का आयोजन उनके द्वारा कराया गया भजन संध्या में उनकी पूरी टीम का सहयोग माता के चरणों में लग रहा।

Song of hymns with Dandiya Raas in the court of Maa Langdi
Song of hymns with Dandiya Raas in the court of Maa Langdi

भजन संध्या में कलाकार जगदीश बारोड गुजरात से, सोनू नायक अंतर्राष्ट्रीय कलाकार गुजरात, रूपल राजकुमार धार, दिव्या सोलंकी अहमदाबाद, प्रदीप कुशवाहा इंदौर से माता के कार्यक्रम में पधारकर माता रानी के आशीर्वाद भजनो की प्रस्तुति दी।

संयोजक सुभाष सोलंकी, आकाश सोलंकी ,लकी सोलंकी विक्की धर्मेंद्र, पवन, प्रकाश, किशोर बॉस, विकास, रवि जायसवाल, अखिलेश चौहान, किशन पांचाल, समस्त ग्राम वासिया उपस्थित रहे।

संपादक- कमलगिरी गोस्वामी

Spread the love