madhyabharatlive

Sach Ke Sath

पत्रकार द्वारा हेडमास्टर को थमाया कानूनी नोटिस, रुपए मांगने लगाया था आरोप

रुपए मांगने का झूठा मैसेज सोशल मीडिया पर किया था वायरल, हेड मास्टर सहित ग्रुप एडमिन स्कूल प्राचार्य पर भी कार्यवाही हो सकती है?

धार। (राकेश साहू) घोड़ा चौपाटी रतलाम रोड स्थित माध्यमिक विद्यालय क्रमांक चार के हेड माड़साब लोकेंद्र सिंह राठौड़ को एवं संकुल केंद्र शासकीय उ मां वि क्रमांक 2 की प्राचार्य व ग्रुप एडमिन ममता सोलंकी को पत्रकार ने मानहानि का कानूनी नोटिस थमाया है। जिस पर इन दोनों में बौखलाहट व्याप्त है।

आपको बता दें कि पत्रकार जब शहर की अन्य शालाओं के साथ माध्यमिक विद्यालय क्रमांक चार में कवरेज करने हेतु पहुंचे तो कवरेज के दौरान मात्र 03 छात्राएं मिली, मध्यान्ह भोजन नही दिया जाना पाया गया, शौचालय गंदगी से भरे पड़े थे, गंदगी चारो तरफ फैली थी, शिक्षक खाली बैठे थे। संकुल प्राचार्य सोलंकी भी उस दिन स्कूल से गायब थी। इसी दिन सहायक आयुक्त और विकासखंड शिक्षा अधिकारी ने भी स्कूल का निरीक्षण किया था। जिसमे मात्र तीन छात्र उपस्थित मिले थे। इसका कवरेज जब पत्रकार ने किया तो लोकेंद्र सिंह राठौड़ ने पत्रकार पर खबर न छापने का दबाव बनाया गया। जब पत्रकार नहीं माना तो राठौड़ ने पत्रकार पर रुपए मांगने का झूठा आरोप मढ़कर मैसेज उ मा वि क्रमांक 2 के शासकीय वाट्सएप ग्रुप में वायरल कर दिया। जिसे अनेको शिक्षकों व प्राचार्यो ने पढ़ा। इससे पत्रकार की प्रतिष्ठा व छबि धूमिल हुई व मानहानि हुई। इस पर पत्रकार ने ग्रुप एडमिन ममता सोलंकी और लोकेंद्र राठौड़ को कानूनी नोटिस अपने अभिभाषक के माध्यम से थमाए है।

यह है नोटिस में—

नोटिस में स्पष्ट लिखा है कि उक्त वायरल किए गए मैसेज का लिखित में खंडन करें और पत्रकार से लिखित में क्षमा याचना करें अन्यथा सात दिवस के उपरांत पक्षकार पत्रकार सक्षम न्यायालय में अपराधिक प्रकरण दर्ज करवाने के लिए वाद दायर करेगा। जिसकी समस्त ज़बाबदारी पृथक-पृथक एवं संयुक्त रूप से ग्रुप एडमिन ममता सोलंकी एवं हेडमाड़साब लोकेंद्र सिंह राठौर की होगी।

स्कूल में करता है हेडमास्टर पार्टियां!

माध्यमिक विद्यालय क्रमांक चार में स्कूल समय के दौरान पढ़ाई छोड़ प्राचार्य सोलंकी के संरक्षण और मौजूदगी में पार्टियां की जाती है, जो जांच का विषय है। इसकी खबर छपने से भी राठौड़ और शिक्षक बौखलाए हुए है और आए दिन षडयंत्र रचते हुए मनमानी करते रहते है।

राठौड़ शिकायत करने का आदी, पूर्व में भी उत्कृष्ट से हटाया गया था।

प्राप्त जानकारी के अनुसार लोकेंद्र सिंह राठौड़ आदतन शिकायती है और विकलांगता का दुरूपयोग करते हुए झूठा षड्यंत्र रचकर मनगढ़ंत आरोप लगाने का आदी बताया गया है। कुछ वर्ष पूर्व राठौड़ शहर के उत्कृष्ट विद्यालय में पदस्थ था, जहां पर इसके कारनामो से तंग आकर प्रशासन ने इसको ग्रामीण इलाके अनारद के मिडिल स्कूल में स्थानांतरित कर दिया था। बाद में यह जोड़तोड़ करके विकलांगता की आड़ में फिर शहर में आ गया। यह जंहा भी रहा है वहा के प्राचार्यो की शिकायते करता रहा है। पहले इसने कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय की महिला प्राचार्य की झूठी शिकायते की थी, फिर इसने एक बीएसी की शिकायत की अब यह सीएम राइज स्कूल के प्राचार्य की शिकायते कर रहा है। इन सब में अपने-अपने स्वार्थवश उ मा वि क्रमाक दो का एक व्याख्याता जिसने प्राचार्यो की हमेशा चमचागिरी की है कभी पढ़ाया नही और जिला शिक्षा केंद्र का एक फर्जी एपीसी राठौड़ का साथ दे रहे हैं।

प्रधान संपादक- कमलगिरी गोस्वामी

Spread the love