madhyabharatlive

Sach Ke Sath

A conspiracy is being hatched to defame

A conspiracy is being hatched to defame

षड्यंत्र कर की जा रही है बदनाम करने की साजिश

षड़यंत्रकारी पर पहले भी गंभीर धाराओं में प्रकरण दर्ज, पीड़ित ने एसपी, आईजी को कार्यवाही का दिया आवेदन। 

धार। (रवि मोरे) विगत कुछ दिनों से एक फर्जी और आदतन अपराधी भाजपा से जुड़े व्यक्ति के खिलाफ वाट्सएप और फेसबुक पर एक अखबार के नाम से कटिग डाल रहा है कि वह तो जुंआरी, सटोरियां है और उस कटिंग को लेकर पार्टी के ही कुछ लोग उसे भाजपा के शीर्ष नेतृत्व और उपर तक के नेता को डालकर  सामाजिक और राजनैतिक भविष्य के साथ खिलवाड़ करने से पीछे नहीं हट रहे है।

जबकि पढ़ताल की गई तो पता लगा कि उक्त व्यक्ति के उपर धोखाधड़ी, 420 एवं महिलाओं से जुड़े वसूली जैसे आधा दर्जन से ज्यादा मामले थाने में दर्ज है और जिस अखबार के नाम से कटिंग बनाकर सोष्यल मीडिया पर प्रकाषित किया जा रहा है, वह अखबार धार में प्रकाषित होना बताया जा रहा है। जबकि उक्त अखबार का किसी प्रकार का कोई नवीनीकरण जनसंपर्क विभाग में दर्ज ही नहीं है। सिर्फ राजनैतिक द्वेषता और मनगढ़ंत और फर्जी खबरे बनाकर सामाजिक और राजनैतिक कॅरियर को खत्म करने का तथाकथित लोगों द्वारा षड़यंत्र रचा जा रहा है।

एसपी और आईजी को दिया आवेदन —

पीड़ित विषाल राठौर ने पार्टी के पदाधिकारियों के साथ एसपी मनोज कुमार सिंह को उपस्थित होकर आवेदन दिया और उसमें उन्होंने स्पष्ट उल्लेखित किया कि माननीय महोदय अगर मैं या मेरा पुरा परिवार जुंए, सट्टे की किसी भी गतिविधि में लिप्त हूं तो मुझ पर प्रषासन द्वारा कड़ी से कड़ी कार्यवाही की जाए।

क्योंकि महोदय इस तरह की फर्जी और भ्रामक चीजों के चलते मैं मानसिक रूप से परेषान हूं और उससे मेरी सामाजिक छबि सोष्यल मीडिया प्लेट फार्म पर लगातार खराब करने का कू प्रयास हो रहा है और ऐसे दुष्प्रचार करने में पार्टी और विपक्ष दोनो नमक मिर्ची लगाकर के वरिष्ठ नेताओं को भ्रामक और दुष्प्रचार करते हुए देखे जा रहे है।

इसी प्रकार का एक आवेदन आईजी महोदय को भी आवेदक द्वारा दिया गया है। जिस पर आरोपी पर कड़ी कार्यवाही करने की मांग की गई है कि जो भी व्यक्ति इस प्रकार की हरकत सोष्यल मीडिया पर कर रहा है उस पर पुलिस प्रषासन विभिन्न धाराओं में प्रकरण पंजीबद्ध कर उसे दंडित करने की मांग की गई है।

मानहानी का दिया नोटिस —

उक्त मामले में पीड़ित ने सोष्यल मीडिया पर चल रही खबर के मामले में तीन लोगो को करीब 10-10 लाख रूपए का वकील द्वारा मानहानी का नोटिस भेजा गया है। उक्त पूरे मामले में इनसे वकील द्वारा 1 सप्ताह में जवाब प्रस्तुत करने को कहा गया है। ताकि न्यायालय की शरण में जाकर फरयादी ऐसे अपराधिक तत्वों से निपटने के लिए न्याय की गुहार लगा सकें।

पुलिस भी है परेषान —

उक्त युवक पुलिस महकमे में भी परेषानी का सबब बना हुआ है। इसके खिलाफ पूर्व में दर्ज मामलो के बाद इसने सोष्यल मीडिया पर नगर पुलिस अधीक्षक और अन्य पुलिस अधिकारियों पर भी गाली-गलौच के साथ पोस्ट सोष्यल मीडिया पर खुद के अकाउंट से डाली गई। पुलिस प्रषासन को प्रकरण दर्ज करने के लिए चैलेंज कर उकसाया गया। किंतु पुलिस विभाग ने इसे मानसिक दिवालिया समझकर कार्यवाही नहीं की। जिसके कारण आदतन अपराधी इस तरह की हरकते करके लोगों की सामाजिक व राजनैतिक छबि को धुमिल करने का कु-प्रयास करता रहा है।

Spread the love