17/06/2024

madhyabharatlive

Sach Ke Sath

प्राकृतिक सौंदर्य की मस्ती में डूबे पर्यटक, हजारों की संख्या में पहुंच रहे पर्यटक

सुरम्य वादियों से सराबोर प्रेम की नगरी मांडू में हजारों की संख्या में पहुंच रहे पर्यटक।

Tourists immersed in the fun of natural beauty, thousands of tourists arriving

20 हजार से अधिक पर्यटक हर रोज पहुंच रहे मांडव चारों तरफ लगा रहता है पर्यटको का जमावड़ा।

धार/मांडव। (अशोक राठौड़ – कार्यकारी संपादक) वर्षा ऋतु आते ही किसी पर्यटन स्थल पर जाने का मन हो तो शायद मांडू से अच्छा विकल्प नहीं हो सकता।

हरियाली के बीच ऐतिहासिक धरोहरों का सौंदर्य मन मोह लेता।

Tourists immersed in the fun of natural beauty, thousands of tourists arriving

ऐतिहासिक महलों के साथ प्रकृति के अद्भुत नजारे इन दिनों यहां पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र बने हुए हैं। जमीन पर उतरते बादल और चारों तरफ फैली हरियाली सहज ही सैलानियों को अपनी ओर आकर्षित कर रही है। रविवार का दिन यहां पर्यटन के लहजे से बेहद खुशनुमा साबित होता है एक तो होगा ऊपर से मांडव की वादियों में घूमने का मौका जिसको लेकर हजारों की संख्या में पर्यटक मांडव पहुंचते हैं।

Tourists immersed in the fun of natural beauty, thousands of tourists arriving

खुशनुमा मौसम के बीच पर्यटन का आनंद लिया। जहाज महल और हिंडोला महल चंपा बावरी गधा शाह का महल रानी रूपमती महल जामी मस्जिद अशरफी महल पर सैलानियों का जमावड़ा देखने को मिला। यहां शनिवार से ही बड़ी संख्या में सैलानी आना शुरू हुए जो क्रम रविवार को भी चलता रहा और देखते ही देखते पर्यटक ओर वाहन की चारों तरफ रेलम पेल लग गई। कई पर्यटको ने खूबसूरत नजारे अपने कैमरे में कैद किए।

जान जोखिम में डालते नजर आए पर्यटक

Tourists immersed in the fun of natural beauty, thousands of tourists arriving

पर्यटन नगरी में जाना और वहां की यादगार तस्वीरों को सहजना हर किसी के मन में आता है, कई पर्यटक सेल्फी और फोटो के चक्कर में दुर्घटना वाले क्षेत्रों में जान जोखिम में भी डालते हुए नजर आए। काकड़ा खो में बनी रेलिंग के ऊपर चढ़कर एक व्यक्ति फोटो खींचते हुए नजर आया। ऐसी स्थिति में अगर व्यक्ति का संतुलन बिगड़ जाए और वह भाई की तरफ गिरे तो बचना नामुमकिन है पर फिर भी व्यवस्था एवं सुविधाओं के अभाव में कई हादसे पर्यटन नगरी में हो चुके हैं उसके बाद भी प्रशासन का सुस्त रवैया देखने को मिल रहा है।

संपादक- श्री कमल गिरी गोस्वामी

Spread the love

Discover more from madhyabharatlive

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading