17/06/2024

madhyabharatlive

Sach Ke Sath

गलियों को लीपा गोबर से, गांव को सजाया दुल्हन सा

पंच दिवसीय अखिल भारतीय श्री मानस सम्मेलन महोत्सव देदला धाम में आज से इसमें प्रसिद्ध मानस मर्मज्ञ के मुखारविंद से प्रवचन की बहेगी गंगा।

श्री मानस सम्मेलन की तैयारिया पूर्ण, तोरण द्वार का होगा लोकार्पण।

धार। अखिल भारतीय रामचरितमानस पर आधारित पांच दिवसीय मानस सम्मेलन का भव्य आयोजन प्रति वर्षानुसार इस वर्ष भी होने जा रहा है।

आपको बता दें कि चतुर्भुज श्री राम मंदिर मांडव के श्री श्री 1008 महंत राम नारायण दास महाराज की 27 वीं पुण्य स्मृति में अखिल भारतीय मानस मंच पर रामचरितमानस सम्मेलन का आयोजन 17 से 21 दिसंबर तक ग्राम देदला धाम में होने जा रहा है।

महामंडलेश्वर डा. नृसिंह दास महाराज के सानिध्य और निर्देशन में होने वाले श्री मानस सम्मेलन का यह द्वितीय वर्ष है जो ग्राम देदला धाम में होने जा रहा है। इसके पूर्व यह आयोजन मांडव में होता आया है।

The streets were covered with cow dung, the village was decorated like a bride

प्रतिष्ठित अखिल भारतीय श्री मानस सम्मेलन महोत्सव देदला धाम में विशेष रूप से देशभर से अनेक महामंडलेश्वर और संत समाज भी सहभागिता करने के लिए आने वाले हैं। तोरण द्वार का लोकार्पण भी देशभर से आने वाले महामंडलेश्वर और संतो के आतिथ्य में 17 दिसंबर को होगा।

भव्य समारोह की तैयारिया पूर्ण –

देदला धाम में श्री मानस सम्मेलन की तैयारिया कई दिन पूर्व से चल रही थी जो की अब महामंडलेश्वर डा. नृसिंह दास महाराज चतुर्भुज राम मंदिर मांडव के मार्गदर्शन में पूर्ण कर ली गई है। 135 बाय 300 फिट का पंडाल और मंच भी बन कर तैयार हो गया है। वही देदला धाम के प्रवेश पर तोरण द्वार भी भव्य रूप से बन कर तैयार है।

विशाल कलश शोभायात्रा –

वही ग्राम देदला धाम में विशाल कलश यात्रा के रूप में संतो की भव्य शोभा यात्रा निकलेगी। शोभायात्रा मार्ग को गाय के गोबर से लिप कर तैयार किया गया है और मार्ग पर रंगोली का निर्माण भी किया गया है। यात्रामार्ग पर अनेक स्थानों पर स्वागत द्वार भी बनाए गए है। पूरे मार्ग पर भगवा ध्वज से साज सज्जा की गई है। अतिथि देवो भव के भाव के साथ ग्रामवासियों के द्वारा सन्तो, महंतो व महामंडलेश्वरो का पुष्प वर्षा कर स्वागत कर दर्शन लाभ लिया जावेगा।

पांच दिवसीय कार्यक्रम इस प्रकार से होंगे –

श्री मानस सम्मेलन श्री राम कथा के यह तीन मानस मर्मज्ञ वक्ता श्री 1008 महंत श्री राममोहनदास जी महाराज रामायणी कुल्लू हिमाचल प्रदेश, मानस आलोक श्री प. राघव किंकर जी महाराज कानपुर उत्तर प्रदेश, मानस माधुरी सुश्री जयंती किशोरी जी शर्मा राष्ट्रीय धर्म प्राचार्य का श्री वृंदावन धाम के साथ, महामंडलेश्वर डॉक्टर नरसिंह दास महाराज के साथ देश के कई प्रदेशों से संत महात्मा आचार्य पंडित इस संत समागम मानस सम्मेलन में भाग लेने आ रहे हैं।

The streets were covered with cow dung, the village was decorated like a bride

पांच दिवसीय मानस सम्मेलन में धार्मिक प्रवचनों की गंगा बहेगी। प्रतिदिन सुबह 12 बजे से शाम 4 बजे तक रामचरितमानस कथा होगी। देश के प्रसिद्ध मानस मर्मज्ञ के मुखारविंद से यह कथा का श्रवण श्रोता करेंगे। यह आयोजन 21 दिसंबर तक चलेगा।

रामचरित मानस सम्मेलन का रसपान करने के लिए दूर-दूर से श्रोता पहुंचेंगे। संत श्रीरामचरित मानस का सुंदर और सरल भाषा में अनुवाद करके लोगों को महिमा बताएंगे।

नानीबाई का मायरा

तीन दिवसीय 17 से 19 तक नानीबाई का मायरा भी प्रतिदिन रात्रि 8 बजे से 10 बजे तक होगा।

The streets were covered with cow dung, the village was decorated like a bride

श्री खाटूश्याम भजन संध्या

20 दिसंबर को रात 8 बजे से श्री श्याम ईच्छा तक एक विशाल बाबा खाटूश्याम की भजन संध्या इस कार्यक्रम के तहत होगी। इसमें हजारों की संख्या में श्रद्धालु भजन संध्या का रसपान करने पहुंचेंगे। प्रसिद्ध भजन गायक प्रकाश राठौड़, प्रदीप कुमावत के साथ भजन गायिका निकिता सिंधारे प्रस्तुति देंगी।

कवि सम्मेलन और भंडारा

21 दिसंबर को अखिल भारतीय विराट कवि सम्मेलन का आयोजन होगा। इसमें देश के जाने-माने प्रसिद्ध कवि अपनी कविता का रसपान मानस सम्मेलन के मंच से श्रोताओं को कराएंगे। इसी के साथ मानस सम्मेलन के समापन पर 21 दिसंबर को सायं 5 बजे विशाल भंडारा महा प्रसादी भी होगी।

संपादक- श्री कमल गिरी गोस्वामी

Spread the love

Discover more from madhyabharatlive

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading